पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

इस बार श्रावण माह में चार सोमवार पड़ेंगे:सावन के दिन 29, कृष्ण पक्ष में द्वितीया, शुक्ल पक्ष में 9वीं तिथी का क्षय

दमोह2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • श्रावण में 4 सोमवार पड़ेंगे, मंदिरों में भक्तों को मिलेंगे भगवान भोलेनाथ के दर्शन,11 जुलाई से गुप्त नवरात्रि

इस साल श्रावण माह श्रवण नक्षत्र प्रतिपदा रविवार 25 जुलाई से प्रारंभ होगा। श्रावण के महीने में शिव आराधना का बड़ा महत्व है। संपूर्ण माह भर शिवलिंग निर्माण करके भगवान भोलेनाथ का दूध, दही, घी, शक्कर, शहद से अभिषेक पूजन किया जाता है। जिससे समस्त मनोकामनाओं की सिद्धि होती है।

इस बार श्रावण माह में चार सोमवार पड़ेंगे। श्रावण सोमवार का शिव आराधना के लिए सर्वार्थ सिद्धि से कही अधिक महत्व माना गया है। ज्योतिष आचार्य पं. रवि शास्त्री के अनुसार श्रावण माह इस साल 29 दिन का ही रहेगा। श्रावण में कृष्ण पक्ष की द्वितीया क्षय और शुक्ल पक्ष की नवमी क्षय है। लेकिन कृष्ण पक्ष में छठ दो हो गई हैं।

ऐसे में कृष्ण पक्ष तो पूरे 15 दिन का होगा। लेकिन शुक्ल पक्ष 14 दिन ही रहेगा। पं. शास्त्री के अनुसार श्रावण में तिथियां घटने बढ़ने के कारण 29 दिन ही श्रावण रहेगा। कृष्ण पक्ष की द्वितीया क्षय होगी और छठ बढ़ेगी तथा शुक्ल पक्ष में नवमी क्षय होगी। इस तरह 29 दिन श्रावण रहेगा। श्रावण शिव का प्रिय माह है।

पूरे श्रावण भक्त शिवजी की विविध तरीके से आराधना करते हैं। जिले के प्रसिद्ध तीर्थक्षेत्र जागेश्वरनाथ धाम बांदकपुर में श्रावण में भक्तों की भीड़ उमड़ती है। दूर-दूर से भक्त भगवान भोलेनाथ के दर्शन करने आते हैं। कोरोना संक्रमण काल में दो माह से मंदिर के द्वार बंद रहे।

लेकिन अनलॉक में मंदिर के द्वार खुल गए हैं और भक्तों को भगवान भोलेनाथ के दर्शन मिलने लगे हैं। श्रावण में भी भक्त भगवान के दर्शन कर सकेंगे। शिवालयों में पार्थिव शिवलिंग निर्माण होंगे। शहर के जटाशंकर धाम में श्रावण सोमवार को भक्ताें की भीड़ उमड़ती है।

आठ दिन की रहेगी गुप्त नवरात्रि
पंडित शास्त्री के अनुसार रवि पुष्य नक्षत्र याेग एवं श्रीवत्स नामक दुर्लभ योग के साथ आषाढ़ शुक्ल पक्ष प्रतिपदा 11 जुलाई से गुप्त नवरात्रि प्रारंभ हो रही हैं। गुप्त नवरात्रि भगवती जगदंबा की विशेष आराधना करने का बहुत ही शुभ समय माना जाता है। इन दिनों में की हुई साधना निश्चित ही सिद्ध होती है और साधक की समस्त मनोकामनाओं को पूरा करती है। इसलिए साधक को चाहिए कि गुप्त नवरात्रि में भगवती जगदंबा की आराधना जरूर करें।

खबरें और भी हैं...