पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

डेंगू-मलेरिया से राहत:कोरोना काल में 95% घटे डेंगू-मलेरिया के केस

दमोह20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • डॉक्टरों के अनुसार लोगों में साफ-सफाई के प्रति जागरूकता बढ़ने से कम आने लगे केस

काेराेना काल में जिले में मलेरिया व डेंगू को लेकर राहत भरी खबर आई है। कोरोना से सतर्कता के कारण इस सीजन में मलेरिया के 95 फीसदी मरीज कम हो गए हैं। चार साल पहले वर्ष 2016 में जिले में मलेरिया के 547 केस सामने आए थे। लेकिन वर्ष 2020 में महज 35 मरीज ही सामने आए हैं।

इसी तरह वर्ष 2016 में जिले में डेंगू के 82 मामले सामने आए थे। जबकि वर्ष 2020 में महज 8 केस ही सामने आए हैं। इस तरह कोरोना काल की अवधि में इन दोनों खतरनाक बीमारियों के मामलों में काफी गिरावट आई है। कोरोना संक्रमण के दौर ने लोगों में स्वास्थ्य के प्रति जागरुकता बढ़ा दी है। घरों के आसपास होने वाली स्वच्छता को लेकर लोग अधिक गंभीर नजर आ रहे हैं। यही वजह है कि इस साल मच्छरों से होने वाली बीमारियों का लोग कम शिकार हुए हैं।

वरिष्ठ चिकित्सक डॉ. जीके जैन का कहना है कि कोरोना काल में लोगों के रहन-सहन व खान-पान में सकारात्मक बदलाव आए हैं। मास्क पहनने, एक-दूसरे से दूरी, बार- बार हाथ धोने, खाद्य पदार्थ धोकर व अच्छे से पकाकर खाने, व्यायाम- योगा करने, बाहर की खाद्य वस्तुओं को नजरअंदाज करने जैसी आदतों से लोग बीमार होने से बच रहे हैं। इससे मौसम जन्य सहित अन्य बीमारियों में भी गिरावट आ रही है।

जून में मनाया जाएगा मलेरिया माह, घर-घर होगा सर्वे

जिला मलेरिया अधिकारी ने बताया कि विभाग हर साल जून माह को मलेरिया माह के रूप में मनाया है। इस दौरान लोगों को अपने घर और आसपास सफाई पर ध्यान रखने जागरूक किया जाता है। सप्ताह में एक दिन ड्राई डे मनाने यानी पानी वाले सभी बर्तन को खाली करें और सुखाकर पुन: भरने की सलाह दी जाती है। कोरोना काल में भी हमारी टीमें गांव-गांव जाकर लोगों को जागरुक कर रहीं हैं। इसके अलावा मलेरिया विभाग द्वारा टेमोफॉस और जले हुए डीजल का छिड़काव भी कराया है। इसके अलावा अस्पताल में फीवर सर्वे तक कराया गया है। जिस वजह से लोग बीमारियों से बचे रहे। विभाग द्वारा जून माह को मलेरिया माह के रूप में मनाया जाएगा। जिसमें जिले भर में सर्वे के साथ-साथ लोगों को जागरूक किया जाएगा।

दो साल में घट गए केस
बीते दो साल में मलेरिया व डेंगू के केस कम हुए हैं। कोरोना काल में लोगों और बच्चों ने भी अच्छी आदतों को अपनाया है। इस कारण वह भी बीमारियों से बचे हुए हैं।- यामिनी सिलापुरिया, जिला मलेरिया अधिकारी

खबरें और भी हैं...