पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

नजारा:दूधिया जलधारा...मटककुंड पर्वत की श्रृंखलाओं से गिरती 160 फीट नीचे गिरता पानी लुभा रहा

बनवारएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कुंड से निकली जल धारा जोगनकुंड धाम पहुंचती है

जबेरा का जोगनकुंड व मतक कुंड प्राकृतिक सौन्दर्य से परिपूर्ण स्थल है, जहां की सुंदरता बारिश के दिनों में देखते ही बनती है, यहां पर 160 फीट की ऊंचाई से गिरती जल धारा का दृश्य लोगों के मन को आनंद से भर देता है।
यह जलप्रपात मटक कुंड (जोगनकुंड) जबेरा जनपद मुख्यालय से जबेरा-करनपुरा होते हुए 8 किमी दूर सिद्ध धाम जोगनकुंड से चट्टानों के दुर्गम मार्ग की तीन किमी की दूरी पर स्थित है। मटक कुंड पहुंचते ही यहां जलप्रपात देखने को मिलता है। जलप्रपात के अथाह कुंड से निकली जल धारा जोगनकुंड धाम पहुंचती है।
सिद्धों की धूनी यज्ञ शाला प्रमुख आस्था का केंद्र
यहां पर अन्तहीन गुफा की पर्वत श्रंखला से बहती हुई जलधारा का बड़ा ही मनोरम दृश्य देखते ही बनता है। यहां पर मंदिरों में भगवान राम, लक्ष्मण, जानकी, संकट मोचन हनुमान जी भव्य प्रतिमा के साथ साथ सिद्धों की धूनी यज्ञ शाला प्रमुख आस्था का केंद्र है।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज उन्नति से संबंधित शुभ समाचार की प्राप्ति होगी। धार्मिक और आध्यात्मिक कार्यों में भी कुछ समय व्यतीत होगा। किसी विशेष समाज सुधारक का सानिध्य आपके अंदर सकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न करेगा। बच्चे त...

और पढ़ें