पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मजदूरी में सेंध का विरोध:मजदूरों के दो खाते खुलवाए,एक पासबुक-एटीएम ठेकेदार ने रखा, दूसरे में डाल रहा कम मजदूरी

दमोह16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • मजदूरों ने श्रम कार्यालय पहुंचकर शिकायत की

सीमेंट फैक्टरी में सालों से काम करने वाले मजदूरों के खातों में कम राशि पहुंचाई जा रही है। बुधवार को श्रम विभाग कार्यालय पहुंचे मजदूरों ने अधिकारियों के समक्ष दस्तावेज प्रस्तुत किए और ठेकेदार की कार्यप्रणाली से अवगत कराया। मजदूरों की माने तो माइसेम सीमेंट फैक्टरी में ठेकेदार समीर चिले के अंडर में 2009 से कार्य कर रहे हैं। लेकिन मजदूरी का भुगतान कम किया जा रहा है।

प्रेमकुमार, माधव सींग, विनोद कुर्मी, सीताराम, चरणधर, धूपचंद, धरमदास, नंदलाल आदि ने बताया कि ठेकेदार के द्वारा हम सभी के दो बैंक खाते खुलवाए हैं और एक बैंक खाते की पासबुक और एटीएम अपने पास जमा कर लिए हैं। हम लोगों के नाम पर एक खाते में जिसकी पासबुक-एटीएम उसके पास जमा है। उसमें 15 से 16 हजार रुपए मजदूरी प्रति मजदूर जमा कराए जाते हैं। जबकि हम लोगों के दूसरे खाते में 8 से 9 हजार रुपए ही पहुंचाए जाते हैं।

इस तरह सालों से हम लोगों का शोषण किया जा रहा है और शिकायत करने वालों को काम से निकालने की धमकी दी जाती है। हम सभी ने संगठित होकर 8 जुलाई को श्रम विभाग में आवेदन दिया था। आज पेशी पर बुलाया गया था। जहां हम लोगों ने दस्तावेज जमा कराए हैं। मजदूरी का भुगतान राशि बढ़ाकर कराए जाने का आश्वासन अधिकारी द्वारा दिया गया है।

खबरें और भी हैं...