• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Sagar
  • Damoh
  • Services Will Be Terminated If They Do Not Return To Work In 24 Hours, Regular Employees Will Also Be Suspended

सफाई कर्मियों को सीएमओ ने दिया था अल्टीमेटम:अल्टीमेटम जारी करने के चार घंटे बाद ही काम पर लौटे सफाई कर्मचारी, सीएमओ बोले- कुछ लोग अपने स्वार्थ के लिए अन्य कर्मचारियों को भड़का रहे थे

दमोह2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
काम पर वापस लौटे सफाई कर्मचारी - Dainik Bhaskar
काम पर वापस लौटे सफाई कर्मचारी

दो दिन से आउटसोर्स व्यवस्था के विरोध में काम बंद करके हड़ताल पर बैठे नगरपालिका के सफाईकर्मी गुरुवार शाम सीएमओ के अल्टीमेटम के बाद काम पर वापस लौट आए और शहर के सभी 39 वार्डों में सफाई शुरू कर दी है। आउटसोर्सिंग का विरोध करने हड़ताल पर बैठे नगरपालिका के सफाई कर्मियों को सीएमओ ने 24 घंटे का अल्टीमेटम दिया था। सीएमओ ने इन कर्मचारियों को नोटिस जारी कर साफ तौर पर कहा था कि यदि वह 24 घंटे के अंदर काम पर वापस नहीं लौटे तो दैनिक वेतन भोगियों और स्थाई कर्मियों की सेवाएं समाप्त कर दी जाएगी। इसके साथ ही इन कर्मचारियों का साथ दे रहे नियमित सफाईकर्मियों को भी निलंबित कर दिया जाएगा। वहीं कलेक्टर एसकृष्ण चैतन्य ने भी इस मामले में साफ कर दिया था कि शासन के नियमों के तहत आउट सोर्स कर्मचारियों से काम लिया जाएगा और उन उन नियमों में वे छेड़छाड़ नहीं कर सकते हैं।

दैनिक वेतन भोगी सफाईकर्मी संघ के जिला अध्यक्ष प्रभात कछवाहा ने बताया कि बुधवार शाम को उन्हें कलेक्टर कार्यालय से फोन आया था कि कलेक्टर सफाईकर्मी संघ के प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात करना चाहते हैं और उनकी समस्या का समाधान करना चाहते हैं। गुरुवार को जब वह कलेक्टर के पास पहुंचे तो कलेक्टर ने साफ कह दिया कि शासन के नियमों के तहत ही काम किया जाएगा। आउटसोर्स के तहत ही नगर पालिका में सफाई कर्मियों की नियुक्ति होगी। इसलिए इस मामले में कुछ नहीं किया जा सकता।

सीएमओ ने दिया अल्टीमेटम
सीएमओ निशिकांत शुक्ला ने बताया कि नवरात्र का समय चल रहा है। शहर को साफ रखने की आवश्यकता ऐसे समय ज्यादा होती है और इस दौरान सफाई कर्मी हड़ताल पर चले गए। उन्हें पहले भी बताया गया था कि शासन के नियम है और आउट सोर्स के तहत ही काम किया जाएगा। लेकिन कर्मचारी मानने को तैयार नहीं थे। इसलिए उन्हें नोटिस जारी कर 24 घंटे का अल्टीमेटम दिया था। ताकि वह काम पर दोबारा वापस आ सकें।

सीएमओ शुक्ला का कहना है कि कुछ कर्मचारी बाकी कर्मचारियों को भड़काने का प्रयास कर रहे थे, जो अब असफल हो गए हैं। उन्होंने बताया कि चंद कर्मचारी अपना स्वार्थ सिद्ध करने के लिए बाकी कर्मचारियों को गुमराह कर रहे थे। उन्हें समझाने का प्रयास किया, लेकिन वह नहीं माने, इसलिए उन्हें मजबूरी में नोटिस जारी करना पड़ा। अब कर्मचारी काम पर वापस आ गए हैं। शहर की सफाई व्यवस्था सुचारू रूप से चलती रहेगी।

खबरें और भी हैं...