बेटियों को प्यार किया, माथा चूमा, फिर की खुदकुशी:पति से झगड़े के बाद 5 बेटियों संग कुएं में कूदी मां, एक चिता पर अंतिम संस्कार

कोटाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कोटा की मदनपुरा ग्राम पंचायत के कालियाखेड़ी गांव में रविवार शाम मां और 5 बेटियों की चिता एक साथ जली। रविवार को मां अपनी 5 बेटियों के साथ कुएं में कूद गई थी। सभी की मौत हो गई। मृतका के मायके वालों ने पति पर झगड़ा करने के आरोप लगाते हुए थाने में शिकायत दी है। दो बेटियां मां के साथ नहीं गईं तो जिंदा बच गईं। पुलिस पूछताछ में दोनों बेटियों ने पूरी घटना के बारे में बताया।

बेटी गायत्री (14) ने बताया कि शाम को खाना खिलाने के बाद मां ने सभी बेटियों के सिर पर हाथ फेरा। घंटों सभी को प्यार करती रही। उनका माथा चूमती रही। इसके बाद हम सभी सो गए। सुबह नींद खुली तो मां और पांच बहन घर में नहीं थीं। अब परिवार में गायत्री और पूनम (7) जीवित बची हैं।

मां और पांच बेटियों का एक साथ हुआ अंतिम संस्कार।
मां और पांच बेटियों का एक साथ हुआ अंतिम संस्कार।

कुएं में बच्ची का शव तैरता दिखा तो हुआ खुलासा
बादाम बाई ने 5 बेटियों के साथ घर से 300 मीटर दूर स्थित कुएं में कूदकर आत्महत्या कर ली थी। कुआं गांव के बाहर एक खेत में था। सुबह स्थानीय लोगों को बच्ची का शव कुएं में तैरता दिखा। जिसके बाद गांव में सनसनी फैल गई। लोगों ने कुएं में उतरकर रस्सी से बांधकर शवों को बाहर निकाला। सूचना पर पुलिस भी मौके पर पहुंची। पति शिवलाल को धुलेट से बुलवाया।

7 बेटियों में 2 बेटियां जीवित बची है।
7 बेटियों में 2 बेटियां जीवित बची है।

पति का घर से बाहर रहना पसंद नहीं था
परिजनों का कहना है कि साफ सफाई व छोटी छोटी बातों को लेकर दोनों में झगड़ा होता था। पति शिवलाल फेरी का काम करता है। कम्बल बेचने जाता था। अक्सर घर से बाहर रहता था। पत्नी को ये बात पसंद नहीं थी। कुछ दिन पहले आपसी कलह के चलते बादाम अपने मायके भवानीमंडी चली गई थी। 15 दिन पहले पति उसको समझाकर लाया था। इसके बाद शिवलाल कम्बल बेचने महाराष्ट्र गया हुआ था।

चार दिन पहले लौटा था पति
शिवलाल की बहन घुलेट में रहती थी। कुछ समय पहले उसकी मौत हो गई थी। मौत की खबर सुनकर 4 दिन पहले ही शिवलाल घर लौटा था। शनिवार को बहन के 12 वें में शामिल होने धुलेट गया था। बताया जा रहा है कि धुलेट जाने से पहले शिवलाल व बादाम बाई के बीच कहासुनी हुई थी। शिवलाल दोपहर में धुलेट चला गया था।

कारणों का खुलासा नहीं
बादाम व शिवलाल के बेटा नहीं है। बताया जा रहा है दोनों के बीच झगड़े का एक कारण ये भी हो सकता है। इसके अलावा शिवलाल अक्सर मजदूरी के चलते घर से बाहर रहता था। बेटियां व पत्नी अकेली रहती थी। बादाम को बेटियों की सुरक्षा की चिंता सता रही थी। वो शिवलाल को मजदूरी के लिए बाहर जाने से टोकती थी। इस कारण दोनों में झगड़ा होता था। फिलहाल आत्महत्या का स्पष्ट कारण सामने नहीं आया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।