पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

प्रतिमा:हटा में गुजरात से लाई गई थी मां चंडी की प्रतिमा, 478 साल से भी ज्यादा पुराना है मंदिर

हटा11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • गुजरात से हटा आए हीरा व्यापारी अपने साथ लेकर आए थे कुल देवी

बुंदेलखंड की उपकांशी हटा नगर में मां चंडी जी का मंदिर सबसे प्राचीन मंदिरों में से एक है। यहां पर मां चंडी जी की प्रतिमा आदिशक्ति मां दुर्गा चंडी रूप में विराजमान हैं। बताते हैं कि यह प्रतिमा गुजरात से लाई गई थी। यहां पर हीरा तरासने का कारोबार करने के लिए गुजरात के नारायण शंकर पंड्या परिवार के साथ आए थे।

वे अपने साथ अपनी कुल देवी मां चंडी जी की प्रतिमा लेकर आए थे और उन्हें एक छोटे से मंदिर में विराजमान किया था। शुरुवात में उनके परिवार के सदस्य ही मंदिर में दर्शन करने जाते थे, धीरे-धीेर से लोगों की आस्था मंदिर से बढ़ गई और लोगों की भीड़ उमड़ने लगी। बताते हैं कि नगर हटा में यह मंदिर करीब 478 साल पुराना है।

खास बात यह है कि पड्या परिवार के सदस्य अभी भी हटा में निवासरत हैं और इस परिवार के जो सदस्य दूसरी जगहों पर जाकर बस गए हैं, उनकी आस्था अब भी मंदिर से जुड़ी हुई है। वे मंदिर के लिए हर तीज त्याैहार पर आते हैं और कार्यक्रमों का आयोजन करते हैं। इसमें भी उनका भरपूर सहयोग होता है। मंदिर की पूजा पद्धति अभी भी गुजराती परंपरा के हिसाब से चलती है।

यहां के मंदिर परिसर में प्रतिवर्ष नौ चंडी एवं शत चंडी महायज्ञ का आयोजन होता है। इसके साथ ही चैत्र व शारदेय नवरात्रि में नौ दिवसीय मेला लगता है, मगर इस बार कोरोना संक्रमण के चलते मेला स्थगित कर दिया गया है, मगर लोगों को सामान्य दर्शन करने के लिए अवसर दिया जा रहा है।

इस मंदिर का उल्लेख दमोह के दीपक नामक पुस्तक में किया गया है। मंदिर के पुजारी ज्योति गोस्वामी ने बताया कि नारायण शंकर पंड्या की भार्या जशोदा बाई ने 1933 में मंदिर का जीर्णोद्धार कराया था। जिसका शिलालेख अभी भी मंदिर में मौजूद है। दमोह का दीपक में उल्लेख है कि हटा के चंडीजी मंदिर में महामारी के दौरान यहां दूर दूर से लोगों ने बचने के लिए आश्रय लिया और बचाव भी हुआ।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- परिस्थितियां आपके पक्ष में है। अधिकतर काम मन मुताबिक तरीके से संपन्न होते जाएंगे। किसी प्रिय मित्र से मुलाकात खुशी व ताजगी प्रदान करेगी। पारिवारिक सुख सुविधा संबंधी वस्तुओं के लिए शॉपिंग में ...

और पढ़ें