पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

होली का पर्व:कंडे, घास-फूस से होलिका दहन किया, बुजुर्गों ने बांटे अपने अनुभव

खुरईएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

हाेली के लिए रविवार काे दाेपहर में तैयारियां पूर्ण कर ली गईं। माेहल्लाें में हाेली का झंडा लगाए गए, उसके नीचे लकड़ियां, कंडे इकट्ठे किए गए। इस बार प्रशासन की अपील पर बच्चाें, युवाओं ने कंडे, घासफूस ज्यादा रखे। महावीर वार्ड के बच्चाें ने कंडे, घासफूस से हाेली सजाई, उसके ऊपर पुट्ठे की हाेलिका, प्रहलाद की आकृति बनाकर रखी, जाे आकर्षण का केन्द्र रही।

हर माेहल्ले एवं गांवाें के बाहर झंडे लगे थे। लाेग हाेली के लिए कंडे, लकड़ी एवं अन्य जलाउ सामग्री इकट्ठी करते रहे। रात में पूजा अर्चना के बाद हाेलिका दहन विधि विधान से किया गया। लाेग हाेली की आग घराें में लेकर आए और प्राचीन परंपरा के अनुसार हाेली की आग प्रज्जवलित की। हाेली पर बुजुर्गों ने अनुभव बताए और होली पर पहले होने वाली घटनाओं,मान्यताओं के बारे में बताया।

बुजुर्ग शंकरलाल सेन, गनेश प्रसाद का कहना है कि पहले नगर के बाहर होलिका बनाई जाती थी। जहां सभी लोग इकट्ठे होते और होलिका दहन किया जाता था। होली का झंडा आग लगने के बाद जिस ओर गिरता उस दिशा को अशुभ माना जाता था। ऐसा माना जाता कि इस दिशा में अशुभ घटनाएं होंगी, लोग सचेत हो जाते थे। किसान गेहूं की बालियां लगाकर उसे आग में सेंकते और घर लेकर जाकर अपने खलिहानों में रख लेते थे।

इसे धान्य की आपूर्ति का सूचक माना जाता। फिर इन सिंकी बालों का उपयोग हरछठ के दिन पूजा में किया जाता था। रात में विदूषक बनकर लोगों का मनोरंजन होता था। उस समय छोटे एवं बड़ों में मर्यादा होती थी। बड़ों को तिलक लगाकर उनके पैर छुए जाते थे। होली में भी मर्यादित सादगी होती थी। प्रेम और उत्साह होता था। अब कई जगह पर अलग-अलग प्रकार से होली रखी जाती है। अब मर्यादा समाप्त हो गई है।

रंग लगाने के बाद लोगों को घंटों साबुन, सैंपू से नहाना होता है। जिसमें पानी की बर्बादी होती है। पहले रंग प्राकृतिक थे। कुंए की एक बाल्टी से पांच मिनट में स्नान हो जाता था। उसी में कपड़े भी धुल जाते थे। जब होलिका दहन का तरीका बदला है तो रंग खेलने का तरीका भी बदलना चाहिए। इस साल काेराेना काल है, सिर्फ हाथ जाेड़कर शुभकामनाएं देकर हाेली मनाएं। घर पर ही तिलक लगाकर हाेली खेलें, आर्शीवाद लें और मुंह मीठा कराएं।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- वर्तमान परिस्थितियों को समझते हुए भविष्य संबंधी योजनाओं पर कुछ विचार विमर्श करेंगे। तथा परिवार में चल रही अव्यवस्था को भी दूर करने के लिए कुछ महत्वपूर्ण नियम बनाएंगे और आप काफी हद तक इन कार्य...

    और पढ़ें