पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

परेशानी:सड़क किनारे लाइन से रख दिए पाइप, किसान खेत में ट्रैक्टर नहीं ले जा पा रहे

खुरई6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

मालथाैन में बाेबई गांव के पास खेतों के सामने रखे बड़े सीमेंट के पाइप परेशानी का सबब बन रहे हैं। किसान खेताें में ट्रैक्टर लेकर घुस नहीं पा रहे हैं। ऐसे में फसल कटाई में परेशानी हाेगी। बाेवनी भी मुश्किल से किसान कर पाए थे। क्रासिंग में एक्सीडेंट का भय बना रहता है। सड़क किनारे एक साल से नहर बनाने के लिए पाइप रखे हुए हैं। किसान मनीष तिवारी, राजेश तिवारी का कहना है कि एचएलटी कंपनी के पाइप एक साल से सड़क किनारे रखे हैं। काम रुका हुआ है।

नहर बनाने के लिए खेताें में पाइप डाले जाना है। पिछले साल खड़ी फसल के समय भी पाइप डाले गए थे। उसके बाद से काम रूका है। किसानाें का कहना है कि कई बार शिकायत करने के बाद भी काेई हल नहीं निकाला गया। ऐसे में थ्रेसर, हार्वेस्टर खेताें तक ले जाना मुश्किल हाेगा। कंपनी के ठेकेदार राजेश मिश्रा का कहना है कि पाइप नहर बनाने के लिए रखे गए हैं। जाे खेताें में ही डाले जाना है। सरकार फसल कटाई की राशि नहीं देती है। ऐसे में जब खेत खाली हाेंगे तभी पाइप डल पाएंगे। गर्मियाें में जब फसलें पूरी तरह कट जाएंगी, तभी पाइप डल सकेंगे।

मुख्यमंत्री सड़क याेजना के तहत सड़क का निर्माण किया गया है। लेकिन उसके दाेनाें ओर मुरम की पटरी नहीं बनाई गई है। जिससे सड़क और साइड के बीच गहराई ज्यादा हाे गई है। ऐसे में रात के समय वाहन नीचे उतर कर अनियंत्रित हाे जाते हैं। इससे राेजाना हादसे हाे रहे हैं। यह स्थिति बांगची तक बनी राेड की है। रेंगुवा के पास सबसे ज्यादा परेशानी हाे रही है। राजकुमार विश्वकर्मा ने बताया कि ठेकेदार ने सड़क ताे बना दी लेकिन पटरियां नहीं बनाई हैं। जिससे सड़क के दाेनाें ओर साइडें गहरी हैं, ऐसे में वाहन अनियंत्रित हाे जाते हैं। ठेकेदार से कई बार साइडें बनाने की मांग की जा चुकी हैं।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज जीवन में कोई अप्रत्याशित बदलाव आएगा। उसे स्वीकारना आपके लिए भाग्योदय दायक रहेगा। परिवार से संबंधित किसी महत्वपूर्ण मुद्दे पर विचार विमर्श में आपकी सलाह को विशेष सहमति दी जाएगी। नेगेटिव-...

    और पढ़ें