फेसबुक ने अपनों से मिलाया / युवाओं ने मंदबुद्धि युवक को परिवार से मिलाया

The youth introduced the retarded young man to the family
X
The youth introduced the retarded young man to the family

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 05:00 AM IST

नौगांव. एक मंदबुद्धि युवक कई दिनों से नगर की गलियों में भटकता हुआ देखा गया। हाथ में लिखे नाम को मुख्य आधार मानकर युवाओं ने फेसबुक और वाट्सएप के माध्यम से उसे उसके बिछड़े परिवार से मिलवा दिया।
जानकारी के अनुसार एक युवक जो अप्रेल 2019 को अपने घर से अचानक गायब हो गया था, परिजनों के द्वारा तलाश की गई लेकिन कोई भी जानकारी नहीं लगी। वह किसी तरह नौगांव पहुंच गया। यहां लोग उससे जानवरों की तरह व्यवहार करने लगे। यह भूखा युवक साहू मुहल्ले पहुंच गया। रामनवमी उत्सव समिति के अध्यक्ष कौशल किशोर साहू, विकास साहू, सोनू साहू, नितिन सोनी ने उससे पूछताछ की और उसका नाम पता जानने की कोशिश की। लेकिन वह कुछ नहीं बता सका। जैसे ही विकास साहू की नजर युवक के हाथ पर पड़ी तो उसके हाथ पर आशीष गुप्ता वेवर लिखा हुआ था। जय विकास साहू, सोनू साहू ने वेवर गांव को सर्च किया तो उत्तरप्रदेश के जिला मैनपुरी में था। ग्राम वेवर के लोगों को फेसबुक पर फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजी गई और वेवर गांव के ही लोगों को फ्रेंड बनाया। फेसबुक पर फ्रेंड बनाकर मंदबुद्धि युवक आशीष की फोटो पर्सनल आईडी पर साझा की गई। जिससे मोहल्ले के एक व्यक्ति ने उसकी पहचान की और पिता से वीडियो कॉलिंग कर बात करा दी। पिता वेदप्रकाश गुप्ता ने अपने बेटे आशीष को पहचान लिया।
बेटे को लेने नौगांव आए पिता : रामनवमी उत्सव समिति के माध्यम से पिता ने वीडियो कॉलिंग के दौरान जैसे ही बेटे को देखा तो तुरंत उसे पहचान लिया। लॉकडाउन के कारण एक प्रदेश से दूसरे प्रदेश में जाने के लिए प्रशासन से अनुमति लेकर एक चार पहिया प्राइवेट वाहन से शुक्रवार की दोपहर करीब एक बजे नौगांव पहुंचे।
बेटे को सीने लगाकर रोने लगे पिता : अपने बेटे को देख पिता की आंखों से आंसू छलक पड़े। उन्होंने भावुक होकर बेटे को सीने से लगा लिया और फफक फफक कर रो पड़े। रामनवमी समिति के सदस्यों ने युवक को नए कपड़े, भोजन कराकर एवं फूल माला पहनाकर पिता के साथ विदा किया। आशीष के पिता ने भी उसकी मदद करने वालों का आभार ज्ञापित किया।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना