• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Sagar
  • 17 Types Of Crops Are Taken Together By Horticulture And Multiple Cropping By Preparing A Terraced Field

खेती में नए प्रयोग:सीढ़ीनुमा खेत तैयार कर बागवानी व मल्टीपल क्रॉपिंग से एक साथ ले रहे, 17 तरह की फसलें

सागर17 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
किसान लक्ष्मीनारायण ने बताया कि उनका खेत ढलाननुमा जमीन पर स्थित है - Dainik Bhaskar
किसान लक्ष्मीनारायण ने बताया कि उनका खेत ढलाननुमा जमीन पर स्थित है
  • अन्य किसान भी इसे अपनाकर अपनी आय में वृद्धि कर सकते हैं

जैसीनगर ब्लॉक में किसान लक्ष्मीनारायण कुशवाहा एक साथ 17 तरह की उपज उगा रहे हैं। एक हेक्टेयर जमीन में वे बागवानी की फल-सब्जियों की उपज से लेकर खेती की मक्का, मूंगफली और तिल की फसल तक ले रहे हैं। किसान लक्ष्मीनारायण ने बताया कि उनका खेत ढलाननुमा जमीन पर स्थित है। इससे बारिश के दौरान पानी के तेज बहाव में फसलों को नुकसान होता था और खेती करना कठिन हो गया था। तब उनके पिता व दादा ने खेत को सीढ़ीनुमा बनाया। इस पर मल्टीपल क्रॉपिंग शुरू की, जिससे एक साथ दो से तीन फसलें लेने लगे।

उन्होंने बताया कि बागवनी में खेत में गिलकी, लौकी, कटहल, अमरूद, केले, संतरा, चीकू और आम लगाए हैं। ये पौधे 15 साल पहले रोपित किए और करीब 10 वर्ष से उपज ले रहे हैं। केले के डेढ़ साल पहले ही उन्होंने दमोह से लाकर टिशू कल्चर जी-90 प्रजाति के पौधे लगाए हैं। 200 पौधे विकसित हो गए हैं। हल्दी और अदरक की उपज भी ले रहे हैं। जैसीनगर की उद्यान विकास अधिकारी अमृता बड़कुल ने बताया कि किसान जैविक खेती के माध्यम से फलों व सब्जियों का उत्पादन कर रहा है। अन्य किसान भी इसे अपनाकर अपनी आय में वृद्धि कर सकते हैं।

किसान लक्ष्मीनारायण ने बताया कि मल्टीपल क्रॉपिंग में खेत में मूंगफली, तिल और मक्का की फसल लगाए हैं। एक हेक्टेयर जमीन को उन्होंने छह भागों में बांटा है। इसमें खेत के बीच में फसल लेते हैं, चारों ओर किनारे पर मक्का लगाए हैं। खेत की मेढ़ पर अंदर साइड फलदार पेड़ और बाहर साइड मक्का की फसल लगी है। खेत में अभी वे मूंगफली और तिल की फसल एक साथ ले रहे हैं। उद्यानिकी उपज में वे प्याज, धनिया, फूलगोभी और पत्तागोभी की फसल एक साथ लेते हैं। गुलाब सहित फूलों की अन्य प्रजाति लगाए हैं।

खबरें और भी हैं...