पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

अच्छी खबर:कलेक्टोरेट में मियावाकी तकनीक से 10 हजार वर्ग फीट में लगाए 2400 पौधे

सागर7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
जापान की मियावाकी  पौधारोपण तकनीक
  • अब प्रदेश के हर नगरीय निकाय में बनेगा ऐसा ही अर्बन फॉरेस्ट

(श्रीकांत त्रिपाठी)
सागर कलेक्टर ने पौधा रोपण की एक अनोखी पहल की है। जिसमें स्मार्ट सिटी द्वारा जापान की मियावाकी पौधारोपण तकनीक से 9 हजार वर्गफीट की जमीन पर 2400 पौधे रोपे गए हैं।
यह पहल प्रदेश में अर्बन फॉरेस्ट्रेशन को बढ़ावा देने के पायलेट प्रोजेक्ट के तहत की गई है। इसका लोकार्पण जल्द ही नगरीय प्रशासन मंत्री भूपेंद्र सिंह के हाथों किया जा सकता है।

इतना ही नहीं इस तकनीक को सागर के साथ प्रदेभर के नगरीय निकायों में अपनाया जाएगा। ताकि कम से कम जगह में ज्यादा से ज्यादा पौधे लगें और शहर के बीच जंगल बनाया जा सके, जो लोगों के लिए ऑक्सीजन बैंक हो।

यह है जापान की मियावाकी तकनीक
जापान के बॉटनिस्ट अकीरा मियावाकी ने हिरोशिमा के समुद्री तट के किनारे पेड़ों की एक दीवार खड़ी की, जिससे न सिर्फ शहर को सुनामी से होने वाले नुकसान से बचाया जा सका, बल्कि दुनिया के सामने कम्युनिटी व घने पौधारोपण का एक नमूना भी पेश किया। इस तकनीक में महज आधे से एक फीट की दूरी पर पौधे रोपे जाते हैं।

ये है तकनीक
पीपल और बरगद जैसे पौधों के साथ कम ऊंचाई तक जाने वाले पौधे लगाए जाएं। पौधारोपण के समय जीवामृत और जैविक खाद का इस्तेमाल करें। पौधारोपण के बाद मिट्टी को पुरानी पत्तियों से ढक दें। ताकि मिट्टी की नमी बनी रहे। इस तरह तेज़ गर्मी में भी पौधे जीवित रह सकते हैं।

सागर में पहला प्रयोग

  • स्मार्ट सिटी के साथ अर्बन फॉरेस्ट्रेशन को भी विशेष महत्व दिया जा रहा है। नगरी प्रशासन मंत्री ने एक बैठक के दौरान शहरों को स्मार्ट बनाने के साथ ग्रीन बनाने की भी बात कहीं थी। जिसे मद्देनजर रखते हुए मियावाकी तकनीक का पहला प्रयोग सागर से शुरू किया गया है। - दीपक सिंह, कलेक्टर सागर
0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज घर से संबंधित कार्यों को संपन्न करने में व्यस्तता बनी रहेगी। किसी विशेष व्यक्ति का सानिध्य प्राप्त हुआ। जिससे आपकी विचारधारा में महत्वपूर्ण परिवर्तन होगा। भाइयों के साथ चला आ रहा संपत्ति य...

और पढ़ें