• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Sagar
  • 263 New Corona Positives Were Found In The District, Now 14 People Are Getting Infected In Every 100 Samples Tested

बेकाबू कोरोना:जिले में 263 नए कोरोना पॉजिटिव मिले, अब हर 100 सैंपल की जांच में 14 लोग मिल रहे संक्रमित

सागर7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सागर| शहर के तीन मढ़िया पर बिना मास्क के आ-जा रहे लोगों के रोको-टोको अभियान के तहत चालान काटे। - Dainik Bhaskar
सागर| शहर के तीन मढ़िया पर बिना मास्क के आ-जा रहे लोगों के रोको-टोको अभियान के तहत चालान काटे।
  • 13 दिन में 976 लोग संक्रमित, 800 से अधिक सक्रिय मरीज अब भी शहर में मौजूद
  • नए मरीजों में स्मार्ट सिटी अॉफिस के कर्मचारी, सेना के 6 जवान और बीएमसी विद्यार्थी शामिल

जिले में गुरुवार को 263 नए कोरोना पॉजिटिव मरीज सामने आए हैं। पॉजिटिव मिले मरीजों में स्मार्ट सिटी ऑफिस के कर्मचारी, सेना के 6 जवान और बीएमसी व सागर विवि के छात्रावासों में रहने वाले विद्यार्थी शामिल हैं। वहीं शनिचरी, भगवानगंज, परकोटा, रामपुरा वार्ड और तुलसीनगर आदि क्षेत्रों में एक ही परिवार के कई सदस्य संक्रमित हुए हैं।

वायरोलॉजी लैब की रिपोर्ट के अनुसार 263 नए संक्रमित मरीजों में वायरोलॉजी लैब से 252, रैपिड एंटीजन टेस्ट से 8 और अन्य लैबों से 3 मरीजों की पुष्टि हुई है। जनवरी के 13 दिन के भीतर अब तक 976 नए संक्रमित मरीज मिल चुके हैं। वहीं जिले में कुल कोरोना पॉजिटिव मरीजों का आंकड़ा 17898 पर पहुंच गया है। इनमें से 800 से अधिक सक्रिय मरीज अब भी शहर में मौजूद है। कोरोना संक्रमण की दर 14 प्रतिशत पर पहुंच चुकी है। यानी हर 100 सैंपलों की जांच में 14 मरीज कोरोना पॉजिटिव मिल रहे हैं।

13 दिन में 50 गुना बढ़ा संक्रमण, लेकिन सैंपलिंग 1 फीसदी ही बढ़ाई

जिले में एक दिन के भीतर कोरोना पॉजिटिव मरीज मिलने का आंकड़ा 150 से बढ़कर 250 पर पहुंच गया है। पिछले 13 दिन की बात करें तो 1 जनवरी को सिर्फ 5 नए संक्रमित मरीज मिले थे। यानी 13 दिन के भीतर संक्रमण 50 गुना बढ़ा है, लेकिन स्वास्थ्य विभाग की सैंपलिंग पर इसका कोई असर नहीं है।

पहले जहां विभाग को एक दिन भीतर 1500 सैंपलिंग करने का लक्ष्य था, जिसे अब 1600 कर दिया गया है। इसके मुकाबले पिछले दो दिन से 1700 से लगभग सैंपल लिए जा रहे हैं। जबकि विभाग को कोविड संक्रमण की स्थिति को देखते हुए अधिक से अधिक सैंपलिंग करने की जरूरत है। बताया जाता है कि अफसर फिलहाल सैंपलिंग बढ़ाने के मूड में इसलिए भी नहीं हैं क्योंकि अधिक सैंपलिंग होने से पॉजिटिव मरीजों के आंकड़े भी बढ़ेंगे। इससे अफसरों की समस्या भी बढ़ सकती है।

संक्रमित मरीजों में युवाओं की संख्या 60 फीसदी से ज्यादा

तीसरी लहर में संक्रमित हुए मरीजों में अब तक सबसे अधिक आंकड़ा 18 से 35 वर्ष तक के युवाओं का है। हर दिन जारी हो रही सूची में करीब 60 फीसदी मरीज इसी उम्र के हैं। इनमें बीएमसी और सागर विवि के छात्रावासों से लेकर अन्य कॉलेजों व नौकरी पेशा युवा शामिल हैं।

वहीं अब तक कोरोना से हुईं तीन मौतों में दो मृतक 22 वर्ष के ही थी। हालांकि अच्छी बात यह है कि इक्का-दुक्का मरीजों को छोड़ दें तो अधिकांश पॉजिटिव युवा होम क्वारेंटाइन में ही स्वास्थ्य हो चुके हैं। वहीं जो शेष हैं उनमें भी कोविड के हल्के लक्षण ही सामने आए हैं।

एक्सपर्ट- पहले बुखार, फिर सिर और पेट में दर्द, उल्टी और डायरिया भी संक्रमण के लक्षण

बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज में मेडिसिन विभाग के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. मनीष जैन बताते हैं कि मरीजों में इस रोग के लक्षण तेजी से बदल रहे हैं। गला, फेफड़े और दिमाग के बाद इसका असर पेट पर दिख रहा है। कोरोना मरीजों में पेट में दर्द, उल्टी और डायरिया जैसे लक्षण देखे गए हैं।

हालांकि अधिकांश मरीजों में गले की खराश और बुखार आदि के लक्षण ही सामने आए हैं। अच्छी बात तो यह है कि 95 फीसदी मरीजों में निमोनिया की स्थिति नहीं है, वहीं अॉक्सीजन सेचुरेशन भी मेंटेन है। इसलिए बगैर भर्ती हुए भी मरीज स्वस्थ्य हो रहे हैं। चिंताजनक बात यह है कि संक्रमण बहुत तेजी से फैल रहा है, इसके मास्क ही सुरक्षित रहने का एकमात्र उपाय है।​​​​​​​

​​​​​​​

खबरें और भी हैं...