पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

प्रवचन:जिस व्यक्ति के अंदर एक बार लज्जा आ जाती है वह हमेशा के लिए पाप से मुक्त हो सकता है

सागर10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • महावीर दिगंबर जैन मंदिर नेहानगर में विराजमान मुनिश्री कुंथुसागर ने कहा-

मूकमाटी महाग्रंथ में गुरुदेव आचार्यश्री विद्यासागर  महाराज ने पूरा का पूरा जीवन का सार भर दिया है। जैसे माटी तपकर कलश का रूप धारण करती है वैसे ही आत्मा मोक्ष मार्ग धारण करके परमात्मा बनती है। मूकमाटी ग्रंथ में इस प्रक्रिया को दर्शाया गया है। यह अपने आप में अद्भुत कृति है। जैसे अद्भुत गुरु हैं वैसे ही उनकी चेतन अचेतन दोनों कृतियां है।  यह बात महावीर दिगंबर जैन मंदिर नेहानगर मकरोनिया में विराजमान मुनिश्री कुंथुसागर महाराज ने कही। उन्होंने कहा कि उन कृतियों के माध्यम से हम धर्म और दर्शन को अच्छी तरह से जान सकते हैं, क्योंकि इसमें सब प्रकार का विषय समावेश किया है। इसमें उन्होंने एक बात और कही कि दूसरों की ओर दृष्टि आपकी क्यों नहीं जाती क्योंकि आपको ईर्ष्या है या पाप का भय है। आदमी में समझ हो तो पाप नहीं करता या समाज का भय हो तो पाप नहीं करता या फिर उसके अंदर लज्जा हो तो पाप नहीं करता। जिस व्यक्ति के अंदर एक बार लज्जा आ जाती है वह व्यक्ति हमेशा के लिए पाप से मुक्त हो सकता है। लोग कहते भी हैं भैया अब तो शर्म खाओ अर्थात अब तो बुरे काम से दूर होने का प्रयास करो। 

शिकायत, शिकवा करने वाले अपने पथ में ही कांटे बोते हैं : ऐलकश्री
ऐलकश्री सिद्धान्त सागर ने कहा कि साधना प्रभावना में संस्कार निर्माण एवं स्वाध्याय के लिए वर्षा योग होता है। यह वर्षा योग आत्म कल्याण के साथ-साथ संतो के समागम से जो नवनीत प्राप्त होता है वह जीवन भर भर हमारे काम आता है। जीने की कला वर्षा योग में जिन श्रावकों को प्राप्त होती है वह उनकी अमूल्य धरोहर होती है। शिकायत, शिकवा करने वाले अपने पथ में ही कांटे बोते हैं और जो दूसरे के पथ में काटे बोते हैं उन्हें भी कांटों से ही गुजरना गुजरना पड़ता है। वे निर्बाध रूप से कभी सफलता को प्राप्त नहीं कर पाते।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- व्यक्तिगत तथा व्यवहारिक गतिविधियों में बेहतरीन व्यवस्था बनी रहेगी। नई-नई जानकारियां हासिल करने में भी उचित समय व्यतीत होगा। अपने मनपसंद कार्यों में कुछ समय व्यतीत करने से मन प्रफुल्लित रहेगा ...

    और पढ़ें