• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Sagar
  • After Three Years Of Marriage, The Wife Filed A Case Against Her Husband And In laws, There Was No Talk Even In Counseling

तीन तलाक कानून:निकाह के तीन साल बाद पत्नी ने पति व ससुराल पक्ष पर दर्ज कराया केस, काउंसिलिंग में भी नहीं बनी बात

सागर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
दाे साल बाद जब वह गर्भवती हुई तभी से उसे यातनाएं दी जा रही थीं। - Dainik Bhaskar
दाे साल बाद जब वह गर्भवती हुई तभी से उसे यातनाएं दी जा रही थीं।

गाैरझामर थाना क्षेत्र में निकाह के 3 साल के अंदर तलाक देने का मामला सामने आया है। पीड़िता की रिपाेर्ट पर पुलिस ने पति व उसके ससुराल पक्ष के लाेगाें के खिलाफ नए कानून के तहत एफआईआर दर्ज की है। तलाक काे लेकर नया कानून बनने बाद जिले में अमूमन यह पहली एफआईआर मानी जा रही है।

गाैरझामर थाना प्रभारी अरविंद सिंह ने बताया कि गाैरझामर की रहने वाली पीड़िता का 2018 में केसली के युवक से निकाह हुआ था। कुछ दिन तक सबकुछ ठीक चला, लेकिन बाद में पति व ससुराल पक्ष के लाेग उसे प्रताड़ित करने लगे।

दाे साल बाद जब वह गर्भवती हुई तभी से उसे यातनाएं दी जा रही थीं। कुछ समय पहले पति ने उसे तलाक देकर मायके भेज दिया। इस मामले में दाेनाें पक्षाें में सुलह कराने के लिए काउंसिलिंग कराई गई थी, लेकिन समझाैता नहीं हुआ। टीआई ने बताया कि तलाक देने के मामले में पीड़िता की रिपाेर्ट पर आराेपी पति व ससुराल पक्ष के लाेगाें के खिलाफ धारा-4 मुस्लिम महिलाओं के विवाह संरक्षण अधिनियम के तहत केस दर्ज किया गया है।

खबरें और भी हैं...