• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Sagar
  • As Soon As He Landed At The Airport, Vedansh Said Thank You Modi Ji, My Friend Is Stuck On The Bunker And Border, Bring Everyone Safely.

सागर का बेटा यूक्रेन से वतन लौटा:एयरपोर्ट पर उतरते ही वेदांश ने कहा-थैंक्यू मोदी जी, निवेदन है मेरे दोस्त बंकर और बार्डर पर फंसे है, सभी को सुरक्षित ले आएं

सागर7 महीने पहले

रूस हमले के बाद यूक्रेन में फंसे सागर के 3 स्टूडेंट की वतन वापसी शुरू हो गई है। रविवार रात सागर की एकता कॉलोनी निवासी वेदांश खरे रोमानिया बार्डर से विमान के माध्यम से दिल्ली पहुंच गए हैं। दिल्ली एयरपोर्ट पर आते ही वेदांश ने कहा थैंक्यू इंडियन गर्वनमेंट, थैंक्यू मोदीजी। आपसे निवेदन है कि मेरे कुछ दोस्त यूक्रेन में बंकर में फंसे हैं। कुछ बार्डर पर हैं। सभी को सुरक्षित वापस घर ले आएं। थैंक्यू सागर कलेक्टर दीपक आर्य जी। उन्होंने लगातार मोबाइल के माध्यम से मेरे से संपर्क किया।

वेदांश ने बताया कि मैं एक दिन दिल्ली में अपनी नानी के घर पर रहूंगा। मंगलवार को सागर आऊंगा। बेटे के वतन लौटने की खबर मिलते ही वेदांश के परिवार में खुशी की लहर है। माता-पिता ने राहत की सांस ली है। वेेदांश खरे यूक्रेन के इवानो फ्रैंक्फिश शहर से एमबीबीएस की पढ़ाई कर रहे हैं।
12 किमी पैदल चलकर बार्डर तक पहुंचे अक्षय
यूक्रेन में फंसे सागर के रहली निवासी अक्षय पटेल ओडेसा से रोमानिया बार्डर के लिए रवाना हुए। लेकिन बार्डर पर पहुंचने से पहले उनकी बस जाम में फंस गई। जैसे-तैसे जमा से निकले तो बार्डर से करीब 12 किमी दूर बस को रोक दिया गया। बार्डर पर लाखों लोगों की भीड़ जमा है। ऐसे में बस को आगे नहीं जाने दिया।

जिसके बाद अक्षय करीब 15 किलो वजनी सामान लेकर पैदल 12 किमी चलते हुए रोमानिया बार्डर पर पहुंचे है। अक्षय की जल्द वतन वापसी होगी। वहीं बीना निवासी शाश्वत जैन भी बार्डर से अपने घर लौटेंगे। दोनों छात्रों से प्रशासन लगातार मोबाइल के माध्यम से संपर्क में है।

खबरें और भी हैं...