• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Sagar
  • Because 109 Out Of 2.57 Lakh People Found 109 Sick, While 10,000 Themselves Came To Give Samples, 1679 Turned Out To Be Positive.

यह सर्वे फर्जी है:क्योंकि 2.57 लाख लोगों की जांच में 109 बीमार मिले, जबकि 10,000 खुद सैंपल देने आए, 1679 पॉजिटिव निकले

सागर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सराफा बाजार में कोरोना कर्फ्यू के बाद भी लोग झुंड बनाकर दिखे। - Dainik Bhaskar
सराफा बाजार में कोरोना कर्फ्यू के बाद भी लोग झुंड बनाकर दिखे।
  • अस्पतालों में कोरोना मरीज तड़प रहे, बेड फुल और महिला बाल विकास एवं स्वास्थ्य विभाग दिखा रहा झूठे आंकड़े

कोरोना संक्रमण रोकने, बुखार वाले व्यक्तियों को चिह्नित करने सर्वे किया जा रहा है। महिला बाल विकास व स्वास्थ्य विभाग की टीम शहर के 48 वार्डों, मकरोनिया व कैंट क्षेत्रों में 17 अप्रैल से सर्वे कर रही हैं, लेकिन अब यह सर्वे फर्जी लग रहा है। सर्वे के शुरूआती हफ्ते में जो आंकड़े सामने आए हैं, वह विश्वसनीय नहीं हैं.. क्योंकि इस सर्वे में टीम के सदस्य सात दिन में 2 लाख 57 हजार 232 लोगों तक पहुंचे और इनमें से महज 109 लोगों में ही बुखार के लक्षण मिले। जबकि इन्हीं सात दिन में जिले में 10 हजार 325 लोगों ने सैंपल जांच के लिए दिए तो इनमें से 1 हजार 679 लोग कोरोना संक्रमित मिले।

सर्वे के आंकड़ों पर प्रश्न चिन्ह इसलिए लग रहा है कि टीम को ढाई लाख लोगों में 109 बीमार मिले और यहां 10 हजार लोगों में 16% संक्रमित निकल रहे। 17 से 23 अप्रैल तक के सर्वे में टीम ने 58 हजार 803 परिवारों से पूछताछ की। इस दौरान 24 लोग ऐसे मिले। जो कोरोना हॉट स्पॉट क्षेत्र या शहर के बाहर से आए थे। टीम ने इस दौरान 293 लोगों को क्वारेंटाइन किया। बीमार लोगों के अलावा सर्वे में बाहर से आए लोगों की संख्या भी बेहद कम है।

  • 17 अप्रैल : 7 हजार 229 परिवारों के 22 हजार 722 लोगों का सर्वे। 20 को बुखार के लक्षण। बाहर से आए 14 लोग मिलें। 39 को क्वारेंटाइन किया गया।
  • 18 अप्रैल : 10 हजार 261 परिवारों के 39 हजार 472 लोगों का सर्वे किया। महज 9 लोगों में बुखार के लक्षण मिलें। बाहर से आए दो लोग मिलें। 90 लोगों को क्वारेंटाइन किया गया।
  • 19 अप्रैल : 14 हजार 115 परिवारों के 65 हजार 465 लोगों का सर्वे किया। 25 लोगों में बुखार के लक्षण मिलें। बाहर से आया एक भी व्यक्ति नहीं मिला। 17 को क्वारेंटाइन किया।
  • 20 अप्रैल : 16 हजार 283 परिवारों के 78 हजार 283 लोगों का सर्वे किया। 23 में बुखार। बाहर से आया एक व्यक्ति मिला। 53 लोगों को क्वारेंटाइन किया।
  • 21 अप्रैल : 4 हजार 969 परिवारों के 22 हजार 547 लोगों का सर्वे किया। मात्र दो लोगों में बुखार के लक्षण मिलें। बाहर से आए हुए छह लोग मिलें। 13 लोगों का क्वारेंटाइन किया गया।
  • 22 अप्रैल : 3 हजार 961 परिवारों के 19 हजार 607 लोगों का सर्वे किया। बुखार के लक्षण 23 में मिले। बाहर से आया एक भी व्यक्ति नहीं मिला। 34 लोगों को क्वारेंटाइन किया गया।
  • 23 अप्रैल : 1 हजार 985 परिवारों के 9 हजार 136 लोगों का सर्वे किया। बुखार के लक्षण 7 में मिले। बाहर से आया एक व्यक्ति मिला। 47 लोगों को क्वारेंटाइन किया गया।

टीम सही जानकारी नहीं दे रही, दोबारा सर्वे करा रहे हैं
सर्वे टीम को लोग सही जानकारी नहीं दे रहे हैं। परिवार बीमार सदस्यों की जानकारी को छुपा रहे हैं। हम शुक्रवार से फिर दोबारा सर्वे शुरू कर रहे हैं।
- रचना बुधौलिया, जिला परियोजना अधिकारी, महिला एवं बाल विकास

10 हजार सैंपल में 16% निकले कोरोना पॉजिटिव

22 अप्रैल को साढ़े 22 हजार में से सिर्फ दो लोग मिले बीमार

अप्रैल माह में हर 100 सैंपल पर मिले 18 संक्रमित, 20 दिन में 26803 जांचें, 4962 पॉजिटिव मिले
सागर | कोरोना काल का सबसे संक्रमित महीना अप्रैल 2021 रहा है। पिछले साल जहां इसी महीने में सिर्फ 5 पॉजिटिव मरीज मिले थे, इस साल यह आंकड़ा 5 हजार के पार है। अब तक जिले में कुल 11455 संक्रमित मरीज मिले हैं, इनमें से 5361 पॉजिटिव मरीज सिर्फ अप्रैल माह में सामने आए। इतना ही नहीं 4962 पॉजिटिव 20 दिन में मिले हैं।

इस दौरान जिले में 26803 लोगों की जांच हुई और पॉजिटिव रेट 18.5 प्रतिशत रहा। यानी हर 100 सैंपल पर 18 संक्रमित मरीज सामने आ रहे हैं। वहीं अब तक के कुल पॉजिटिव रेट की बात करें तो मार्च से अब तक इस रेट में 2.2 फीसदी की बढ़ोत्तरी हुई है। मार्च में पॉजिटिव रेट 2.2 प्रतिशत था, जो अप्रैल के अंत में 4.4 प्रतिशत पर पहुंच गया।

दूसरे पीक में चार गुना बढ़े कोरोना पॉजिटिव मरीज
अप्रैल माह को एक्सपर्ट दूसरा पीक मान रहे हैं। यह पीक 8 मई तक चलेगा। इसके बाद डाउनफॉल आने की संभावना है। पहला पीक सितंबर माह में आया था तब जिले में 1354 पॉजिटिव मिले थे। लेकिन दूसरे पीक में अब तक चार गुना ज्यादा यानी 5361 संक्रमित मरीज सामने आए हैं। इन आंकड़ों से अंदाजा लगाया जा सकता है कि पहला पीक दूसरे से कितना खतरनाक है।

खबरें और भी हैं...