पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Sagar
  • Bus Operator, Who Is Demanding Tax Exemption On The Lines Of Rajasthan For Bus Operation In The State, Also Proposed A Fare Hike

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मांग:प्रदेश में बस संचालन को लेकर राजस्थान की तर्ज पर टैक्स माफी की मांग कर रहे बस ऑपरेटर, किराया वृद्धि का भी दिया प्रस्ताव

सागर10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • आखिर कब चलेगी बसें 8 राज्यों में बस संचालकों का टैक्स माफ किया जा चुका, परिवहन मंत्री बोले- सीएम से बात करेंगे

अनलॉक के बाद 1 जुलाई से जहां देशभर में पब्लिक ट्रांसपोर्ट शुरू किए जा रहे हैं। वहीं मध्यप्रदेश में शासन से आदेश जारी होने के बाद भी प्रदेश के बस ऑपरेटर वाहनों का संचालन करने तैयार नहीं हैं। बस ऑपरेटर एसोसिएशन कहना है कि मध्यप्रदेश सरकार राजस्थान की तर्ज पर बस संचालकों का टैक्स माफ करे, वहीं आगामी संचालन के लिए भी टैक्स में रियायत दे।
इसके बाद ही बसें सड़कों पर उतरेंगी। शासन और बस ऑपरेटर एसोसिएशन के बीच चल रहे इस विवाद का खामियाजां जनता को भुगतना पड़ रहा है। एक तरफ जहां शहरों के बीच आवाजाही बंद है, वहीं ग्रामीणों को इलाज व अन्य जरूरी सामान की खरीदी के लिए भी प्राइवेट वाहन किराए पर लेने पड़ रहे हैं।
31 जुलाई तक लॉकडाउन का पूरा टैक्स भरने के आदेश

राज्य के परिवहन विभाग ने 3 जुलाई को प्रदेश में बसों का संचालन शुरू करने के आदेश जारी किए हैं। वहीं लॉकडाउन के समय पर पूरा टैक्स भरने के लिए 31 जुलाई तक का समय दिया है। लेकिन सागर के बस ऑपरेटर एसोसिएशन के सचिव अतुल दुबे का कहना है कि तीन माह से बसों का संचालन बंद है, ऐसे में ड्राइवर, कंडक्टर और क्लीनर समेत अन्य स्टाफ का वेतन देने में ही काफी अधिक भार ऑपरेटर्स के ऊपर बढ़ चुका है। नौबत यह है कि छोटे बस ऑपरेटर्स के पास बसों के लोन की किश्त भरने तक के पैसे नहीं हैं। ऐसे में टैक्स का भुगतान कैसे होगा?
इसलिए राजस्थान की तर्ज पर रियायत मांग रहे बस ऑपरेटर
बस ऑपरेटर राजस्थान की तर्ज पर रियायत देने की मांग इसलिए कर रहे हैं। क्योंकि राजस्थान सरकार ने लॉकडाउन के समय का पूरा टैक्स माफ कर दिया है। वहीं आगामी बस संचालन के लिए भी पहले माह 75 प्रतिशत, दूसरे माह में 50 प्रतिशत और तीसरे माह में 25 प्रतिशत टैक्स की छूट दी है। चौथे माह से पूरा टैक्स वसूला जाएगा।
यह हैं बस ऑपरेटर्स की मांगे

  • राजस्थान की तर्ज पर लॉकडाउन के समय की टैक्स माफी और आगामी टैक्स में भी छूट मिले।
  • डीजल के दाम बढ़ने के कारण किराए में 50 फीसदी की वृद्धि की जाए।
  • ड्राइवर व कंडक्टर को शासन की ओर से सहायता राशि दी जाए।
  • बसों के संचालन में सहयोग के लिए परिवहन विभाग नियमों में ढील दे।

राज्यों ने लॉकडाउन के समय का टैक्स माफ किया है। राजस्थान सरकार की ओर से बस ऑपरेटर्स को पटरी पर लाने के लिए जो प्रयास किए जा रहे हैं, वह भी प्रशंसनीय है। लेकिन सवाल यह है कि जब दूसरी सरकारें टैक्स माफ कर सकती हैं तो मध्यप्रदेश सरकार क्यों नहीं। बस ऑपरेटर इस समय बड़ी आर्थिक तंगी से गुजर रहे हैं। यदि शासन ने रियायत नहीं दी तो बसें सड़क पर नहीं उतरेंगी।

- संतोष पांडे, उपाध्यक्ष, मप्र बस ऑपरेटर एसोसिएशन
मैं आज ही परिवहन विभाग का दायित्व संभाला है। जनता की परेशानियों को देखते हुए मेरी पूरी कोशिश रहेगी कि जल्द से जल्द दोबारा बसों का संचालन शुरू हो। मैं इस संबंध में मुख्यमंत्री से बात करूंगा। -गोविंद सिंह राजपूत, परिवहन मंत्री मप्र शासन

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - आज की स्थिति कुछ अनुकूल रहेगी। संतान से संबंधित कोई शुभ सूचना मिलने से मन प्रसन्न रहेगा। धार्मिक गतिविधियों में समय व्यतीत करने से मानसिक शांति भी बनी रहेगी। नेगेटिव- धन संबंधी किसी भी प्रक...

    और पढ़ें