• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Sagar
  • Changed System Due To Fear Of Corona, New Prisoners Being Kept In Temporary Jail, Ban On Roaming In Jail

सागर में नए कैदियों की मुख्य जेल में नो-एंट्री:कोरोना के डर से बदली व्यवस्था, अस्थाई जेल में रखे जा रहे नए बंदी, जेल में घूमने पर लगाई पाबंदी

सागर8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सेंट्रल जेल सागर। - Dainik Bhaskar
सेंट्रल जेल सागर।

सागर में बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए जेल प्रबंधन ने व्यवस्थाओं में बदलाव किया है। जेल के अंदर संक्रमण की रोकथाम के लिए नए बंदियों की एंट्री पर पाबंदी लगाई है। जेल आने वाले नए बंदियों को मुख्य जेल में रखने के बजाय अस्थाई जेल में रखा जा रहा है। जहां 10 दिनों तक उनकी निगरानी की जा रही है। सुरक्षा के लिए प्रहरी तैनात किए गए हैं। कैदियों से मुलाकात बंद कर दी गई है।

जेल के अंदर भी सख्ती बरती जा रही है। जेल के अंदर कैदियों के घूमने-फिरने पर रोक लगाई गई है। बेवजह कोई भी बंदी परिसर में नहीं घूम सकता है। इसके अलावा जेल के कर्मचारियों को मॉस्क लगाना अनिवार्य किया है। स्क्रीनिंग के बाद ही जेल में प्रवेश दिया जा रहा है।
पैरोल, पेशी से वापस आने वाले बंदी अस्थाई जेल में
सागर जेल अधीक्षक राकेश भांगरे ने बताया कि कोरोना संक्रमण को देखते हुए जेल परिसर में अस्थाई जेल बनाई गई है। इसमें 3 बैरक हैं। जिनमें 100 से अधिक बंदी रह सकते हैं। कोरोना काल में मुख्य जेल से जो भी बंदी पेशी पर, अस्पताल या फिर पैरोल पर जाता है तो वापस आने पर उसे अस्थाई जेल में रखा जा रहा है। ताकि जेल के अंदर संक्रमण का खतरा न हो सके। जेल परिसर में अब तक दो कोरोना संक्रमित मिल चुके हैं।
छुट्टी से लौटने पर जांच रिपोर्ट दिखाना अनिवार्य
बंदियों के साथ ही जेल में तैनात कर्मचारियों को भी एहतियात बरतने के निर्देश दिए गए हैं। जेल में तैनात कोई कर्मचारी यदि छुट्टी पर गया है और वापस लौटता है तो उसे आरटीपीसीआर जांच कराना अनिवार्य है। ड्यूटी पर तैनात होने के दिन की नेगेटिव रिपोर्ट साथ लाने के बाद ही उसे ड्यूटी पर लिया जा रहा है। जेल में एक आइसोलेशन वार्ड भी बनाया गया है।