पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नियंत्रण:हिंसक आंदोलनों पर नियंत्रण के लिए बंदूक की जगह गुलेल के प्रयोग पर विचार हो : डाॅ. अहिरवार

सागर10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

तीरंदाजी, गुलेल, गुथना, गड़ा-गेंद और चौपड़ हमारी प्राचीन खेल विधाएं हैं। इन्हें आधुनिक खेल की दुनिया में पुर्नस्थापित किया जा सकता है। हिंसक आंदोलनों के दौरान बंदूक की जगह गुलेलों का उपयोग किया जाए तो हिंसा भी रुकेगी और व्यक्तियों की जान जाने का जोखिम भी नहीं रहेगा। यह बात एक्सीलेंस गर्ल्स डिग्री कॉलेज के प्राचार्य डॉ. बीडी अहिरवार ने कही। वे मंगलवार को कॉलेज के क्रीड़ा विभाग द्वारा क्रीड़ा गतिविधियों के स्वास्थ्य पर प्रभाव विषय पर आयोजित वेबीनार को संबोधित कर रहे थे।  उन्होंने कहा कि प्राचीन समय में एथेन्स एवं स्पार्टा के बीच जो निरंतर युद्ध होते थे, उनमें सैनिक खेल विधाओं के जरिए चुने जाते थे। वेबीनार में डाॅ. अंजना नेमा, डाॅ. मोनिका हार्डिकर ने भी सहभागिता की।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - आर्थिक स्थिति में सुधार लाने के लिए आप अपने प्रयासों में कुछ परिवर्तन लाएंगे और इसमें आपको कामयाबी भी मिलेगी। कुछ समय घर में बागवानी करने तथा बच्चों के साथ व्यतीत करने से मानसिक सुकून मिलेगा...

    और पढ़ें