पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Sagar
  • Dead Body Of Blood soaked Youth Found On The Roof Of Devi Temple Of Agasaud, Fear Of Accident

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

हत्या या हादसा:आगासौद के देवी मंदिर की छत पर मिली खून से सनी युवक की लाश, हादसे की आशंका

सागर/बीनाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
देवी मंदिर की गुंबद से गिरे युवक की मौत के बाद मौके पर पहुंची पुलिस
  • दीपों को उतारते समय गुंबद से गिरने से मौत की आशंका

आगासौद के देवी मंदिर की छत पर एक युवक का शव मिलने से सनसनी फैल गई। वह मंदिर की गुंबद पर रखे आटे के दीपों का विसर्जन करने के लिए चढ़ा था। आशंका है कि दीप उतारते समय सिर के बल गिरने से उसकी मौत हो गई। पुलिस इस मामले को इसलिए संदिग्ध मान रही है क्योंकि यह घटना नवमी के दिन की है,उस दिन मंदिर में काफी भीड़ थी इसके बावजूद भी किसी को पता नहीं चला।

मृतक के दोनों हाथ की हड्डियां टूटी थीं। सागर से आई एफएसएल टीम ने जांच की। पुलिस हादसा या हत्या इन दोनों पहलू पर जांच कर रही है।

गुंबद पर रखे दीपों को विसर्जन करने का कह घर से निकला था

थाना प्रभारी एनपी दाहिमा ने बताया कि शीतल पिता ज्ञान कुशवाहा उम्र 35 वर्ष निवासी आगासौद रविवार नवमी के दिन सुबह 9 बजे परिजनों से कह कर घर से निकला था कि देवी मंदिर के गुंबद के चारों तरफ पंचमी के दिन आटे की दीपक रखे थे। जिन्हें आज दुर्गानवमी को विसर्जन करना है। इसलिए वह दीपों को गुंबद से उतारकर उन्हें विसर्जन करने के लिए जा रहा है। उसके बाद जब वह शाम तक घर नहीं पहुंचा तो उसके परिजनों ने उसे गांव में खोजा एवं ग्रामीणों से उसकी जानकारी नहीं मिली तो परिजन मंदिर पहुंचे। मंदिर के ऊपर चढ़कर देखा तो शीतल का शव खून से लथपथ पड़ा था। जानकारी मिलने के बाद एसडीओपी प्रिया सिंह व पुलिस बल मौके पर पहुंचा। पुलिस ने संदेह जताया है कि युवक मंदिर की गुंबद पर चढ़कर दीपक उतार रहा होगा तभी वह सिर के बल नीचे गिरा होगा। जिस कारण उसके सिर व हाथ-पैर में गंभीर चोट आने से उसकी मौत हो गई।

शीतल ने ही की थी मंदिर की पुताई

थाना प्रभारी ने बताया कि देवी जी के मंदिर की ऊंचाई 16 फीट है, जिस पर सीढ़ी नहीं है। नसेनी लगा कर चढ़ना पड़ता है। वहीं मंदिर के ऊपर 12 फीट ऊंची गुंबद है। आधे रास्ते तक सीढ़ी लगी हैं और उसके बाद तार को पकड़ कर ऊपर चढ़ना पड़ता है।

जिस कारण खतरे को देखते हुए कोई भी मंदिर पर नहीं चढ़ता है। शीतल ही मंदिर के ऊपर चढ़ता था। शीतल ने ही नवदुर्गा से पहले मंदिर के गुंबद की पुताई की थी। नवमी के कारण मंदिर पर दिनभर भीड़ रही लेकिन किसी को इस घटना के बारे में पता नहीं चला। इस बात पर पुलिस को संशय है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- दिन उन्नतिकारक है। आपकी प्रतिभा व योग्यता के अनुरूप आपको अपने कार्यों के उचित परिणाम प्राप्त होंगे। कामकाज व कैरियर को महत्व देंगे परंतु पहली प्राथमिकता आपकी परिवार ही रहेगी। संतान के विवाह क...

और पढ़ें