पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Sagar
  • Desi Liquor Being Sold Expensively In Black, So Only The Sanitizer Started Drinking, Intoxication Of 2 Quarters In A Bottle Of 40 Rupees

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

शराब के रूप में सैनिटाइजर का उपयाेग:ब्लैक में महंगी बिक रही देसी शराब, इसलिए सैनिटाइजर ही पीने लगे, 40 रुपए की बाॅटल में 2 क्वार्टर का नशा

सागर12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मजदूर वर्ग ज्यादा कर रहा , मेडिकल स्टाेर्स पर इसकी बिक्री ज्यादा। - Dainik Bhaskar
मजदूर वर्ग ज्यादा कर रहा , मेडिकल स्टाेर्स पर इसकी बिक्री ज्यादा।

काेराेना वायरस से सुरक्षा के लिए उपयाेग में लाए जाने वाला सैनिटाइजर देसी शराब के विकल्प के रूप में इस्तेमाल हाे रहा है। काेराेना कर्फ्यू के कारण शराब दुकानें बंद चल रही हैं। ऐसे में देसी व अंग्रेजी शराब की ब्लैक मार्केटिंग बढ़ गई है। शराबियाें काे ब्लैक में शराब खरीदने पर ज्यादा दाम चुकाना पड़ रहे हैं।

मध्यम और निचले तबके के लाेग खासकर मजदूर वर्ग सैनिटाइजर से नशे का जानलेवा शाैक पूरा कर रहा है। किसी भी मेडिकल स्टाेर्स से आसानी से उपलब्ध हाे रही सैनिटाइजर की 40 रुपए की बाॅटल से देसी मसाला के दाे क्वार्टर के बराबर नशा मिल रहा है। जान खतरे में डालकर लाेग सैनिटाइजर पी रहे हैं। भास्कर टीम मंगलवार काे संत रविदास वार्ड, अंबेडकर, विट्ठलनगर, भगतसिंह और अन्य झुग्गी बस्तियाें में पहुंची ताे कई जगह लाेग सैनिटाइजर पीते मिले।

यह है बचत और ज्यादा नशे का खेल
सैनिटाइजर में 80-90 प्रतिशत एल्काेहल रहती है, जबकि शराब में 35 प्रतिशत तक। इस तरह सैनिटाइजर की एक बाॅटल से दाे पऊआ का नशा हाे जाता है। सीधे 200 रुपए तक की बचत हाे जाती है। मसाला देसी का एक पऊआ ब्लैक में 150 रुपए तक में बिक रहा है। सैनिटाइजरसे जल्दी और ज्यादा नशा हाे रहा है। जिससे लाेगाें में इसकी लत बढ़ रही है।

मेडिकल स्टाेर्स से सबसे ज्यादा सैनिटाइजर की बिक्री
खुरई राेड और अन्य इलाकाें के मेडिकल स्टाेर्स इस समय सबसे ज्यादा सैनिटाइजर बिक रहा है। जीनियस नाम के हैंड सैनेटाइजर का उपयाेग शराब के रूप में हाे रहा है। सैनेटाइजर की खरीद-बिक्री पर पुलिस प्रशासन की लगाम नहीं है।

शराब हो लेकर आए दिन हाे रहे लड़ाई-झगड़े
सैनिटाइजर में शराब से कहीं ज्यादा नशा रहता है। माेतीनगर थाना क्षेत्र में आए दिन शराबियाें के बीच लड़ाई-झगड़े हाे रहे हैं। कुछ दिन पहले करीला इलाके में सैनिटाइजर पीने के बाद चार युवकाें ने साथी एक युवक के सिर पर पत्थर पटक दिया था। गनीमत रही की उसकी जान बच गई। एडिशनल एसपी सिटी विक्रम सिंह कुशवाहा का कहना है जिन इलाकाें में लाेग शराब के रूप में सैनिटाइजर पी रहे हैं, वहां के मेडिकल स्टाेर्स संचालकाें से इसकी बिक्री के संबंध में चर्चा करेंगे।

भास्कर स्टिंग; सैनिटाइजर पीने वाले बाेले, क्या करें मजबूरी है

करीला इलाके में सैनिटाइजर पी रहे दाे लाेगाें से हमने बात की।

भास्कर- ये क्या पी रहे हाे?
शराबी- सैनेटाइजर है।
भास्कर-क्या शराब नहीं मिल रही?
शराबी- ठेका बंद है और दाे नंबर में खरीदने के लिए पैसे नहीं है।
भास्कर-ब्लैक में कितने की बिक रही शराब?
शराबी- लाल का 150 रुपए में दे रहे हैं।
भास्कर-एक सैनेटाइजर और दाे लाेग?
शराबी- 40 रुपए की इस बाॅटल में देसी मसाला से कहीं ज्यादा नशा है।
भास्कर-इससे जान जाने का खतरा है, डर नहीं लगता?
शराबी- क्या करें मजबूरी है।

पुलिस पहुंची फाेरलेन के ढाबाें पर, लाेग मिले लेकिन शराब नहीं

फाेरलेन के ढाबाें, अहाताें और शराब दुकानाें के आसपास ब्लैक में शराब बेचे जाने के खुलासे के बाद पुलिस ने इन स्थानाें पर दबिश दी। कैंट पुलिस ने जहां कुड़ारी दुकान की सर्चिंग कराई ताे वहीं बहेरिया पुलिस ने हाईवे के ढाबे, रेस्टाेरेंट व अहाते चैक किए। सुबह जब पुलिस सत्यम ढाबा के पास पहुंची ताे यहां आसपास खड़े मिले कुछ लाेगाें के खिलाफ धारा 151 के तहत कार्रवाई की।

सर्चिंग में कहीं से भी शराब जब्त नहीं हुई। कार्रवाई की भनक लगते ही शराब किसी दूसरे स्थान पर शिफ्ट करने की चर्चा है। बहेरिया थाना प्रभारी गाैरव तिवारी ने बताया कि लगातार सर्चिंग चल रही है। फिलहाल कहीं से शराब जब्त नहीं हुई।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- समय अनुसार अपने प्रयासों को अंजाम देते रहें। उचित परिणाम हासिल होंगे। युवा वर्ग अपने लक्ष्य के प्रति ध्यान केंद्रित रखें। समय अनुकूल है इसका भरपूर सदुपयोग करें। कुछ समय अध्यात्म में व्यतीत कर...

    और पढ़ें