पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कोविड पॉजिटिव हो जाएं तो घबराएं नहीं:पर्याप्त खाना खाएं, ईश्वर और दुआओं पर भरोसा रखें और यह सोचें कि मैं ठीक होकर ही रहूंगा

सागर14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • फेफड़ों में 80% संक्रमण के बाद हैदराबाद में इलाज करा रहे डॉ. सतेंद्र मिश्रा ने भास्कर के पाठकों को दिया संदेश

सबसे पहले यह ध्यान रखें कि जो भी कोविड पॉजिटिव हों अच्छे से खाना खाते रहें और बराबर-बराबर पानी पीते रहें। ताजे फल लें। कभी भी पानी की कमी नहीं होनी चाहिए। न पानी की कमी न खाने की कमी। जितना ज्यादा आप खाना और पानी लेंगे, उतने ही जल्दी आप ठीक हो जाएंगे। कम से कम 4 से 5 गिलास पानी तो रोजाना पीना जरूरी ही है। दूसरी महत्वपूर्ण बात यह कहना है कि आपको बिल्कुल भी डर नहीं होना चाहिए। क्योंकि कितनी भी बड़ी बीमारी क्यों न हो, आपके मनोबल से बड़ी नहीं होती। आदमी ने अगर ठान लिया कि हां, मुझे ठीक होना है। मैं ठीक होकर ही रहूंगा, तो उसको ठीक होना ही है। फिर उसको स्वस्थ होने से कोई नहीं रोक सकता।

दूसरा, हमेशा यह याद रखना है कि भगवान आपके साथ है और लोगों की दुआएं आपके साथ हैं। इस प्रकार की धारणा बनाने से आप आसानी से बीमारी से बाहर निकल आएंगे। मुझे 8 दिन वेंटिलेटर लगा रहने के बाद भी रिकवरी अच्छी हो गई। यह लोगों की दुआएं ही हैं कि इतनी तेज रिकवरी हो गई। यहां जब मैं पहले दिन आया था और 80% तक लंग्स में संक्रमण था तो यहां के डॉक्टर चिंतित थे और उनका कहना था कि बड़ा मुश्किल है रिकवर होना। वे मुझसे रोज बात भी करते थे, मैं उनसे यही कहता था कि जो भी स्टैंडर्ड प्रोटोकोल है आप उसी के अनुसार चलिए और उसी पर आगे बढिए, रिकवरी बिल्कुल होगी।

यहां के डॉक्टर ओपिनियन भी लेते थे कि आप इलाज में क्या चाहते हैं, मेरा कोविड को लेकर साल भर का अनुभव रहा है मरीजों को देखने का, भाग्योदय में काम करने का उसी के आधार पर मैं कहता था कि मेरा इलाज ऐसा होना चाहिए। साथ ही यह भी कहता था कि आप बेहतर जानते हैं कि क्या ट्रीटमेंट होना चाहिए। परंतु वे बीच-बीच में मुझसे सलाह जरूर लेते रहे। एक महत्वपूर्ण बात यह भी सभी से कहना है कि लोग सावधानी बरतने के लिए मास्क तो लगा ही रहे हैं, सोशल डिस्टेंसिंग भी बना रहे हैं। इसका व्यापक प्रचार भी हो रहा है, परंतु बीमार होने पर महत्वपूर्ण सावधानी यही रखनी है कि खाना नहीं छोड़ना है। हमेशा खाना पानी लेते रहें।

आप बीमार पड़ जाएं तो साथ में एक सहायक भी रखें। क्योंकि आपको इस स्थिति में यह याद नहीं रहता कि आपने क्या लिया क्या नहीं लिया। ऐसे में जो साथ में रहे, वह आपको ताजे फल और खाना खिलाता रहे। पता नहीं सागर में कंडीशन कैसी है, पर अभी सतर्कता रखना बहुत जरूरी है। जो भी आपके साथ सहायक है, वह मास्क लगाए। ग्लब्स भी साथ में रखें। इसमें दोनों ही सुरक्षित रहेंगे। जैसे सैलून में कटिंग के पहले गाउन पहना देते हैं, वैसे ही गाउन पहनें, न हो तो तौलिया या कपड़े को गर्दन पर गाउन की तरह लटका लें। ऐसा करके और एन-95 मास्क पहनकर आप आसानी से सुरक्षित रहकर सब कर सकते हैं।

अभी मेरी ऑक्सीजन भी हटा दी गई है, फिलहाल मेरा ऑक्सीजन सैचुरेशन सामान्य रूप से 94 है। मैंने डॉक्टर साहब से बुधवार (5 मई) तक डिस्चार्ज करने का बोला था, पर उन्होंने कहा है कि आपकी एक बार सीटी स्कैन कराएंगे। उसके बाद लगेगा तो फिर आपको छुट्टी दे दी जाएगी। क्योंकि मुझे बिल्कुल भी अच्छा नहीं लग रहा है कि मैं इस तरह से यहां बैठा हूं और मेरा शहर इस समय परेशानियों से जूझ रहा है। यह जरूर कहना चाहूंगा कि खुश रहें।

कोरोना ने जो नकारात्मकता फैलाई है, उससे थोड़ा सा दूर रहें। योगा प्राणायाम करें। घरवालों के साथ आराम से बैठकर हंसी मजाक करें। वैक्सीनेशन का नंबर आए तो जरूर लगवाएं। मैंने भी एक डोज लगवाया था। यह बेहद कारगर है। अंत में सब से यही कहना है कि यह जंग है और मानवता ही जीतेगी। कभी ऐसी कोई बीमारी नहीं आई ,बड़े-बड़े प्लेग आए, स्पेनिश फ्लू आए हैं, ऐसा कभी भी नहीं रहा जिस-किसी ने हमारे हौसले तोड़ दिए हों। हम ही जीते हैं और हम ही जीतते रहेंगे। }
(डॉ. सतेंद्र मिश्रा ने हैदराबाद में चल रहे इलाज के दौरान भास्कर से चर्चा में बताया)

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - आर्थिक स्थिति में सुधार लाने के लिए आप अपने प्रयासों में कुछ परिवर्तन लाएंगे और इसमें आपको कामयाबी भी मिलेगी। कुछ समय घर में बागवानी करने तथा बच्चों के साथ व्यतीत करने से मानसिक सुकून मिलेगा...

    और पढ़ें