• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Sagar
  • In The Case Of Assault, Two Parties Reached The Police Station, When The Police Asked For Action, They Agreed To Keep Ganga On Their Head In The Temple Built In The Premises.

सागर के थाने में अजब-गजब राजीनामा:सरपंच पति-ग्रामीण में झगड़ा, पुलिस ने थाने बुलाया; सिर पर गंगाजल का लोटा रख मानी अपनी-अपनी गलती

सागरएक वर्ष पहले

सागर के बंडा में अजब-गजब मामला सामने आया है। दो पक्ष मारपीट की शिकायत लेकर बंडा थाने पहुंचे थे। पुलिस ने कार्रवाई की बात कही। इस पर दोनों पक्ष थाने में बने मंदिर में गए। यहां सच कौन बोल रहा है और झूठ कौन बोल रहा है? इसका फैसला गंगाजल से किया गया। दोनों ने अपने सिर पर गंगाजल रखकर अपनी-अपनी गलती मानी और फिर सुलह कर ली।

बंडा थानाक्षेत्र के ग्राम बूड़ाखेड़ा निवासी पुष्पेंद्र सिंह लोधी ने पुलिस थाने में शिकायत की थी कि सरपंच पति आमोल सिंह ने मारपीट की है। सरपंच पति अमोल सिंह ने भी पुष्पेंद्र सिंह पर बार-बार झूठी शिकायतें करने का आरोप लगाया था। इसी मामले को लेकर रविवार को दोनों पक्ष बंडा पुलिस थाने पहुंचे थे। पुलिस ने दोनों पक्षों पर कार्रवाई की बात कही। पुलिस की बात सुन कार्रवाई के डर से दोनों पक्ष थाना परिसर में बने राम मंदिर में पहुंचे। यहां पुजारी की उपस्थिति में दोनों पक्षों ने बारी-बारी से लोटे में गंगाजल लेकर सिर पर रखा और अपनी गलती स्वीकार की।

मंदिर में सिर पर गंगाजल से भरा लोटा रखकर रखी अपनी बात।
मंदिर में सिर पर गंगाजल से भरा लोटा रखकर रखी अपनी बात।

एक-दूसरे पर मढ़े आरोप, फिर समझौता

सरपंच पति अमोल सिंह ने बताया कि पुष्पेंद्र बार-बार आरोप लगाकर शिकायतें करता रहता है। वो कहता है कि मुझे उसने 10 हजार रुपए दिए हैं, लेकिन मुझे 10 पैसे नहीं दिए। उसने मुझे गाली दी थी तो मैंने एक थप्पड़ मार दिया था। शिकायतकर्ता पुष्पेंद्र सिंह ने कहा कि अमोल ने उसके पिता का प्रधानमंत्री आवास योजना की लिस्ट से नाम कटवा दिया था। मेरे साथ मारपीट की है। हालांकि, मामले में दोनों पक्षों के गलती स्वीकार करने के बाद समझौता हो गया।

सरपंच पति ने गंगाजल सिर पर रख गलती स्वीकारी।
सरपंच पति ने गंगाजल सिर पर रख गलती स्वीकारी।

दोनों पक्षों ने राजीनामा किया

बंडा थाना प्रभारी मानस द्विवेदी ने बताया कि बूढ़ाखेड़ा के एक ही परिवार के दो सदस्यों में आपसी विवाद था। शनिवार को न्यायालय परिसर के सामने दोनों के बीच विवाद हुआ था। मामले में दोनों के खिलाफ प्रतिबंधात्मक कार्रवाई की थी। इसके बाद दोनों को थाने बुलाया था। थाने में आकर दोनों पक्षों ने आपसी सहमति से मंदिर में जाकर राजीनामा कर लिया है।

खबरें और भी हैं...