मरीजों की परेशानी:दिल्ली में अटकी जांच रिपोर्ट, सागर में कोरोना का कौन-सा वेरिएंट, पता ही नहीं

सागर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना का संक्रमण तेजी से फैल रहा है। जनवरी के पहले सप्ताह में जहां हर दिन औसतन 20 पॉजिटिव मरीज मिल रहे थे, वहीं अब इनकी संख्या 200 से अधिक है। हैरानी की बात तो यह है कि जिले की वायरोलॉजी लैब को अब तक पता नहीं है कि संक्रमण कोरोना के किस वेरिएंट से फैल रहा है।

इसकी पुष्टि के लिए 15 दिसंबर, 28 दिसंबर और 15 जनवरी को कुल 45 कोरोना पॉजिटिव मरीजों के सैंपल जीनोम सिक्वेंसिंग जांच के लिए दिल्ली स्थित नेशनल सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल (एनसीडीसी) भेजे गए थे। लेकिन अब तक एक की रिपोर्ट भी प्राप्त नहीं हुई है। इनमें कोरोना संक्रमण से जान गवा चुके खिमलासा और मोतीनगर क्षेत्र के कोरोना संक्रमित मरीजों के सैंपल भी शामिल हैं। ऐसे में यह पता लगाना मुश्किल हो रहा है कि कोरोना के किस वेरिएंट से संक्रमण फैल रहा है और किससे जानें गईं।

इसलिए जरूरी है जीनोम सिक्वेंसिंग परीक्षण

ओमिक्रॉन के बीए-1 व बीए-2 वेरिएंट एक्टिव बताए गए हैं। देश में अब तक बीए-3 वेरिएंट की पुष्टि नहीं हुई है। सागर में जीनोम सिक्वेंसिंग की रिपोर्ट आने पर इसके उपचार व नियंत्रण के कदम उठाए जा सकेंगे।

जिले में 208 नए कोरोना संक्रमित मिले

जिले में सोमवार को 208 नए कोरोना पॉजिटिव मरीज सामने आए हैं। इनमें वायरोलॉजी लैब से 194, रैपिड एंटीजन टेस्ट से 10 और अन्य लैबों से 4 मरीजों की पुष्टि हुई है। पॉजिटिव मिले मरीजों में मकरोनिया, गोपालगंज, कैंट, बीना, खुरई, गढ़ाकोटा और शाहगढ़ क्षेत्र में एक ही परिवार के कई सदस्यों के नाम शामिल हैं।

जनवरी के 24 दिन के भीतर अब तक 3862 नए संक्रमित मरीज मिल चुके हैं। वहीं जिले में कुल कोरोना पॉजिटिव मरीजों का आंकड़ा 20 हजार 784 पर पहुंच गया है। इनमें 2808 सक्रिय मरीज अब भी जिले में मौजूद हैं।

खबरें और भी हैं...