• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Sagar
  • Learned To Make Fake Silver Jewelry By Working At A Gilt Shop In Bhopal, Caught By The Police Selling It In Kesli

सागर में नकली चांदी के साथ पकड़ाया युवक:भोपाल में गिलट की दुकान पर काम कर सीखा चांदी के नकली गहने बनाना, केसली में बेचते पुलिस ने दबोचा

सागर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
नकली चांदी की पायल जब्त की। - Dainik Bhaskar
नकली चांदी की पायल जब्त की।

सागर जिले की केसली थाना पुलिस ने असली चांदी के गहने बताकर नकली आभूषण बेचते हुए एक आरोपी को गिरफ्तार किया है। आरोपी के कब्जे से 1 किलोग्राम वजनी नकली चांदी के गहने जब्त किए है। आरोपी ने भोपाल में रहकर चांदी के नकली गहने बनाना सीखा था।

सूचना के अनुसार केसली थाना क्षेत्र के ग्राम अर्जुनी में नकली चांदी के गहने बेचे जाने की खबर मुखबिर से पुलिस को मिली। सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और आरोपी सतीश उर्फ सुखसिंग पुत्र द्वारका प्रसाद घोषी (38) साल निवासी अर्जुनी को नकली आभूषण बेचते हुए दबोच लिया। उसके कब्जे से 1 किलोग्राम नकली चांदी की पायल जब्त की।

थाने लाकर आरोपी से पूछताछ की जा रही है। वहीं आरोपी सतीश के खिलाफ धोखाधड़ी समेत अन्य धाराओं में प्रकरण दर्ज किया गया है। केसली थाना प्रभारी मकसूद अली ने बताया कि नकली चांदी के गहने बेचते हुए एक आरोपी को गिरफ्तार किया है। आरोपी से पूछताछ की जा रही है।
भोपाल में गिलट की दुकान पर काम करता था आरोपी
पूछताछ में आरोपी सतीश ने बताया कि वह भोपाल में रहकर गिलट के गहने बनाने वाली दुकान में काम करता था। इसी दौरान चांदी के नकली आभूषण बनाना सीख गया। भोपाल में करीब 6 साल तक रहा। इसके बाद कोरोना काल में लगे पहले लॉकडाउन में आरोपी सतीश भोपाल से अपने गांव लौट आया था। इसके बाद वो यही रहने लगा और नकली गहने बनाने लगा।
250 ग्राम के गहने बेचता था 10 हजार में
पुलिस के अनुसार आरोपी सतीश ने पूछताछ में बताया कि वह गिलट पर चांदी का पानी चढ़ाता और उस पर पाउडर लगाता था। ताकि नकली चांदी के गहने असली चांदी के होना दिखने लगते थे। इसके बाद वह असली चांदी के गहने बताकर ग्रामीण क्षेत्रों में बेचता था। ज्यादातर नकली चांदी की पायल बनाकर बेचता था। आरोपी 250 ग्राम वजनी नकली चांदी की पायल ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों को 10 हजार रुपए तक में बेचता था। जबकि नकली चांदी की इस पायल की बाजार में कीमत करीब 900 रुपए होगी। गिरफ्तारी से पहले भी आरोपी कई लोगों को नकली गहने बेच चुका है।