पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

शर्मनाक:एमबीबीएस के विद्यार्थियों ने नशे में पीजी स्टूडेंट काे पीटा और कान काटा; चार पर एफआईआर

सागरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
घायल पीजी स्टूडेंट राजेश मीणा
  • बीएमसी में डॉक्टर बनने आए विद्यार्थियों की गुंडों जैसी हरकत
  • मेडिकल कॉलेज प्रबंधन ने साधी चुप्पी, विद्यार्थियों को समझाइश देकर छोड़ा

बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज में डॉक्टर की पढ़ाई करने आए एमबीबीएस के विद्यार्थियों ने मंगलवार देर रात पीजी फर्स्ट ईयर के स्टूडेंट से जमकर मारपीट की। शराब के नशे में धुत चार छात्रों ने ड्यूटी पर जा रहे पीजी स्टूडेंट राजेश मीणा को पहले बेल्ट और लात-घूंसे मारे और फिर उसके जमीन पर गिरते ही दांतों से उसका कान काट दिया।

पीजी स्टूडेंट का कान इतनी बेरहमी से काटा कि उसके कान की ऊपरी सतह के दो हिस्से हो गए। इसके बाद मौके पर अन्य एमबीबीएस के विद्यार्थियों की भीड़ जमा हुई, लेकिन किसी ने भी उसकी मदद नहीं की। अंत में दूसरे पीजी स्टूडेंट्स ने आकर राजेश को अस्पताल में भर्ती कराया और तब जाकर उसका इलाज हो सका।

पीजी स्टूडेंट की शिकायत पर गोपालगंज थाना पुलिस ने एमबीबीएस के चार विद्यार्थियों पर मामला दर्ज कर लिया है। इनमें एक 2014 बैच का गौरव कुमार आशीष और 2018 बैच के विजय मालव, हेमंत सानेधिया और देवेंद्र पटेल शामिल हैं। हैरानी की बात तो यह है कि थाने में एफआईआर और पीजी स्टूडेंट्स से मारपीट के मामले में शिकायत मिलने के बाद भी कॉलेज प्रबंधन चुप है।

प्रभारी डीन ने वार्डन को जांच के आदेश दिए हैं। लेकिन विद्यार्थियों को केवल समझाइश देकर छोड़ दिया गया। प्रबंधन की इस अनदेखी के चलते देशभर से विशेषज्ञता हासिल करने आए पीजी स्टूडेंट्स में भय का माहौल है। यदि इसी तरह जूनियर सीनियर से मारपीट करते रहे तो 5 साल की कड़ी मेहनत से बीएमसी को हासिल हुई पीजी की मान्यता के बावजूद भी अच्छे विद्यार्थी सागर आने से पीछे हटेंगे।

इस मामले में प्रभारी डीन डॉ. आरएस वर्मा का कहना है कि पीजी स्टूडेंट शिकायत लेकर मेरे पास आए थे। मैंने हॉस्टल वार्डन को मामले की जांच के आदेश दिए हैं। वहीं मारपीट करने वाले विद्यार्थियों को बुलाकर सीनियर से माफी मांगने को भी कहा था।

विवाद की वजह: पीजी स्टूडेंट्स के लिए हॉस्टल नहीं जूनियर के साथ रहने को मजबूर

बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज में हड्डी रोग, ईएनटी और पीडिया आदि क्लीनिक विभागों में इसी वर्ष से पीजी के दाखिले हुए हैं। ऐसे में प्रबंधन पीजी स्टूडेंट्स के लिए अलग से हॉस्टल की व्यवस्था नहीं कर सका। इन्हें जूनियर रेसीडेंट के साथ रहना पड़ रहा है। ऐसे में जूनियर्स की अभद्रता का शिकार हुए जयपुर राजस्थान से आए पीजी स्टूडेंट राजेश मीणा ने बताया कि 2018 बैच के विद्यार्थियों का झगड़ा उसके साथ रहने वाले जूनियर से था। ऐसे में जब वह कमरे में नहीं मिला तो उन्होंने ड्यूटी पर जाते समय मेरी बाइक रोकी और गाली देकर मारना शुरू कर दिया।

सेंट्रल लाइब्रेरी बनी स्टूडेंट्स का आहाता

बीएमसी में एमबीबीएस स्टूडेंट्स के बीच नशे की बात करे तो यहां देर रात तक शराब की अवैध सप्लाई और गांजा आदि आसानी से उपलब्ध हो जाता है। यहां पढ़ाई के उद्देश्य से सेंट्रल लाइब्रेरी 24 घंटे खुली रहती है। लेकिन विद्यार्थी यहां की छत पर पढ़ाई छोड़कर शराब की बोतलें खोलते नजर आते हैं।

रात के समय न तो यहां प्रबंधन का पहरा रहता है और न ही सुरक्षा गार्डों की चलती। छत पर बड़ी मात्रा में शराब की खाली बोतले देखी जा सकती है। इतना ही नहीं कई एमबीबीएस के विद्यार्थी पांच साल पूरे होने के बाद भी अवैध रूप से हॉस्टल में रह रहे हैं।

पहले भी कई बार सामने आ चुके हैं स्टूडेंट्स के विवाद

यह पहली बार नहीं है जब बीएमसी में पढ़ने वाले एमबीबीएस स्टूडेंट के बीच मारपीट की बात सामने आई हो। इससे पहले सागर विश्वविद्यालय के छात्र को पीटने का मामला भी तूल पकड़ा था। जिसमें बीएमसी के विद्यार्थियों पर मामला दर्ज हुआ था।

वहीं पिछले वर्ष वार्षिक उत्सव के दौरान 2016 बैच के विद्यार्थियों ने अपने ही एक सीनियर के साथ मारपीट कर उसका सिर फोड़ा था। हालांकि सीनियर और जूनियर दोनों ही नशे में धुत होने के कारण मामला कॉलेज में ही दबा दिया गया। बीएमसी प्रबंधन हर बार विद्यार्थियों के कैरियर की दुहाई देकर इनकी गुंडागर्दी पर पर्दा डाल देता है। जिससे अब ऐसे गंभीर मामले सामने आने लगे हैं।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज भविष्य को लेकर कुछ योजनाएं क्रियान्वित होंगी। ईश्वर के आशीर्वाद से आप उपलब्धियां भी हासिल कर लेंगे। अभी का किया हुआ परिश्रम आगे चलकर लाभ देगा। प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे लोगों के ल...

और पढ़ें