रेमडेसिविर की लैंडिंग:इमरजेंसी के लिए बचे थे सिर्फ दो रेमडेसिविर, स्टेट प्लेन से 15 बॉक्स में 720 इंजेक्शन सागर के लिए भेजे गए

सागर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गुरुवार को स्टेट प्लेन से ढाना हवाई पट्टी पहुंचे रेमडेसिविर के 15 बॉक्स, जिनमें 720 इंजेक्शन आए हैं। - Dainik Bhaskar
गुरुवार को स्टेट प्लेन से ढाना हवाई पट्टी पहुंचे रेमडेसिविर के 15 बॉक्स, जिनमें 720 इंजेक्शन आए हैं।
  • कमिश्नर के द्वारा संभाग के सभी जिले में जरूरत के हिसाब से वितरित किए जाएंगे 720 रेमडेसिविर इंजेक्शन

कोरोना के इलाज में अहम माने जा रहे रेमडेसिविर इंजेक्शन के गुरुवार को सरकारी स्टोर में इमरजेंसी के लिए सिर्फ दो डोज ही बचे थे। इंजेक्शन का स्टॉक खत्म होने से दो दिन से सरकारी अस्पतालों के साथ निजी नर्सिंग होम को भी रेमडेसिविर उपलब्ध नहीं कराए गए। गुरुवार को स्टेट प्लेन से 15 बॉक्स में 720 इंजेक्शन आए।

जो कमिश्नर के द्वारा संभाग के सभी जिले में जरूरत के हिसाब से आवंटित किए जाएंगे। औषधि निरीक्षक प्रीत स्वरूप, तहसीलदार डॉ. अजेन्द्रनाथ प्रजापति और स्टोर इंचार्ज अरूण प्रजापति ने ढाना हवाई पट्टी पहुंचकर रेमडेसिविर के 15 बॉक्स में 720 इंजेक्शन प्राप्त किए। कालाबाजारी रोकने मेडिकल स्टोर को रेमडेसिविर आवंटित नहीं किए जा रहे हैं।

100 से 150 रेमडेसिविर की मांग, मिल रहे 15 से 20
एसडीएम व रेमडेसिविर वितरण के नोडल अधिकारी पवन बारिया ने बताया कि इंजेक्शन का वितरण सरकारी व निजी दो तरह से हो रहा है। सरकारी में बीएमसी, जिला अस्पताल व ब्लॉक में स्थित कोविड सेंटर में जहां जरूरत पड़ रही है। वहां इंजेक्शन उपलब्ध कराया जा रहा है। वहीं निजी में शहर के आठ बड़े नर्सिंग होम सागरश्री, भाग्योदय, राय, चैतन्य, सुयश, सुकृत, बालाजी और चिरंजीवी को ही इंजेक्शन दिए जा रहे हैं। इनमें एडमिट पेशेंट के हिसाब से 100 से 150 इंजेक्शन की मांड की जाती है, लेकिन इन्हें अभी 15 से 20 इंजेक्शन ही उपलब्ध कराए जा रहे हैं।

ओवर द काउंटर नहीं बिकेंगे रेमडेसिविर
ड्रग इंस्पेक्टर प्रीत स्वरूप ने बताया कि जिले में कही भी रेमडेसिविर इंजेक्शन ओवर द काउंटर नहीं बिक सकेंगे। सीधे नर्सिंग होम को ही दे रहे हैं और डॉक्टर के सुपर-विजन में पेशेंट को इंजेक्शन लग रहा है। पेशेंट का भी पूरा रिकॉर्ड रखा जा रहा है। इंजेक्शन देने के दूसरे दिन पेशेंट से भी कंफर्म किया जाता है कि उसे इंजेक्शन लगा है या नहीं। उन्होंने बताया कि इंजेक्शन की कालाबाजारी रोकने एलआईबी के सदस्यों को भी नजर रखने के लिए कहा गया है। यदि कही कालाबाजारी का मामला सामने आता है तो कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

खबरें और भी हैं...