• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Sagar
  • Out Of 2.22 Lakh Tricolor Flag From Ministry Of Culture, 1.56 Lakh Turned Out To Be Non standard, Will Be Returned

हर घर तिरंगा अभियान:संस्कृति मंत्रालय से आए 2.22 लाख तिरंगा झंडा में से 1.56 लाख निकले अमानक, वापस होंगे

सागर4 महीने पहलेलेखक: अतुल तिवारी
  • कॉपी लिंक
अभियान के तहत जिले के 5 लाख 87 हजार घर और 8 हजार सरकारी व निजी दफ्तर में तिरंगा झंडा फहराने का लक्ष्य 13 से 15 अगस्त तक रखा गया है। लेकिन लक्ष्य के मुताबिक जिले में तिरंगा झंडा का वितरण नहीं हो सका है। - Dainik Bhaskar
अभियान के तहत जिले के 5 लाख 87 हजार घर और 8 हजार सरकारी व निजी दफ्तर में तिरंगा झंडा फहराने का लक्ष्य 13 से 15 अगस्त तक रखा गया है। लेकिन लक्ष्य के मुताबिक जिले में तिरंगा झंडा का वितरण नहीं हो सका है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पहल पर जिले में शनिवार से हर घर तिरंगा अभियान शुरू हो रहा है। इस अभियान के तहत जिले के 5 लाख 87 हजार घर और 8 हजार सरकारी व निजी दफ्तर में तिरंगा झंडा फहराने का लक्ष्य 13 से 15 अगस्त तक रखा गया है। लेकिन लक्ष्य के मुताबिक जिले में तिरंगा झंडा का वितरण नहीं हो सका है। जिला पंचायत, पोस्ट ऑफिस और आजीविका मिशन के माध्यम से जिले में झंडों का वितरण किया जा रहा है।

इन तीनों विभाग ने अब तक 3 लाख 92 हजार 709 तिरंगा झंडा का वितरण जिले में किया है। तय लक्ष्य से 1 लाख 94 हजार 291 झंडा का वितरण कम किया गया है। केंद्र सरकार के संस्कृति मंत्रालय से जिले में भेजे गए 1.56 लाख तिरंगा झंडा खराब निकल गए। इससे तय लक्ष्य की पूर्ति हो पाना संभव नहीं है।

जिला पंचायत : 2.25 लाख की भेजी डिमांड, 2.22 लाख झंडा मिले
जिला पंचायत के अधिकारियों ने केंद्र सरकार के संस्कृति मंत्रालय को 2.25 लाख तिरंगा झंडा की डिमांड भेजी थी लेकिन डिमांड के मुताबिक 2 लाख 22 हजार 364 झंडा ही जिले में दो बार में उपलब्ध कराए गए। अधिकारियों ने बताया कि पहली बार में 1 लाख 19 हजार 61 और दूसरी बार में 1 लाख 3 हजार 303 तिरंगा झंडा मिले। कोटवारों की टीम बनाकर झंडों का परीक्षण कराया गया तो इनमें से 1 लाख 56 हजार 877 झंडा तय मानक के तहत सही नहीं पाए गए।

इनमें से कुछ झंडों में चक्र बीच में नहीं था, कुछ कई जगह से कटे-फटे थे, कुछ झंडों में डबल प्रिंट था तो कुछ झंडों में दूसरे रंग के डॉट आ गए थे। 65 हजार 487 झंडा ही तय मानक के तहत सही पाए गए, जिनका वितरण जिला पंचायत द्वारा किया जा चुका है। अधिकारियों ने बताया कि जो झंडा सही नहीं पाए गए हैं, उन्हें वापस करने के लिए केंद्र के संस्कृति मंत्रालय के अधीन आने वाले स्वराज संस्थान को पत्र लिखा है।

आजीविका मिशन: 3 लाख 9 हजार झंडा समूह की महिलाओं ने कराए उपलब्ध
आजीविका मिशन के स्व-सहायता समूह से जुड़ी महिलाओं ने 11 जुलाई से तिरंगा झंडा तैयार करना शुरू कर दिया था। अधिकारियों ने बताया कि 100 समूह की महिलाओं द्वारा कुल 3 लाख 9 हजार झंडा तैयार किए गए हैं। इनमें से 2 लाख 49 हजार तिरंगा झंडा गुरुवार शाम तक बांटे जा चुके थे। आजीविका मिशन ने जिले की 765 पंचायत में 20 रुपए 50 पैसे प्रति झंडे की दर से झंडे उपलब्ध कराए हैं। जिनका वितरण गांव में पंचायत सचिव व रोजगार सहायक द्वारा किया जाना है।

पर्याप्त प्रशिक्षण न मिलने के कारण स्व-सहायता समूह की महिलाओं को तिरंगा झंडा तैयार करने में काफी परेशानी हुई इसलिए उन्होंने भी अधिकांश झंडे जबलपुर, दिल्ली व अन्य शहरों से वेंडर के माध्यम से मंगवाकर पंचायतों को उपलब्ध कराए हैं। तब जाकर पूर्ति हो सकी। हालांकि कुछ झंडे महिलाओं द्वारा भी तैयार किए गए हैं।

पोस्ट ऑफिस: 237 डाकघरों से 18 हजार तिरंगा झंडा का वितरण
जिले में 237 पोस्ट ऑफिस से अब तक 18 हजार 222 तिरंगा झंडा का वितरण हुआ है। प्रवर अधीक्षक एके अरख ने बताया कि पोस्ट ऑफिस में कुल 30 हजार झंडा वितरण के लिए उपलब्ध कराए गए थे। सागर और दमोह दो जिलों में 30 हजार में से 29 हजार 123 झंडे बांटे जा चुके हैं। इनमें से 18 हजार 222 झंडे सागर जिले में बांटे गए हैं।

खबरें और भी हैं...