पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Sagar
  • People Asked When Will You Get The Ration Slip, The Gas Cylinder Is Over, You Fill It And Send It Home

1075 कोविड कंट्रोल रूम:लोगों ने पूछा- राशन पर्ची कब मिलेगी, गैस सिलेंडर खत्म हो गया है आप भरवाकर घर भिजवा दीजिए

सागर12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • तीन माह में 16 हजार काॅल, 83% ने फिजूल के सवाल किए

कोविड संक्रमण के पिछले तीन माह में स्मार्ट सिटी कार्यालय में बनाए गए कोविड कंट्रोल रूम के टोल फ्री नंबर 1075 पर 16 हजार 376 फोन कॉल आए, लेकिन इनमें से 83% फिजूल कॉल रहे। सिर्फ 17% लोगों ने ही फोन पर बेड, ऑक्सीजन, रेमडेसिविर व वैक्सीन के बारे में पूछा।

लोगों ने कोविड कंट्रोल रूम फोन कर घर के बाहर से बैरिकेडिंग हटने, राशन पर्ची न मिलने, गैस की टंकी न मिलने जैसी अन्य शिकायतें की। इसके साथ ही कोरोना कब खत्म होगा, अनलॉक कब होगा? इस तरह के सवाल भी किए।

हालांकि पिछले 10-12 दिन में संक्रमण कम होने से अब फोन कॉल आना भी कम हो गए हैं। मई में संक्रमण की दर सबसे अधिक होने के कारण मार्च और अप्रैल की तुलना में मई में 68% कॉल अधिक आए। ऑक्सीजन, रेमडेसिविर के लिए 46, वैक्सीन के लिए 2500 फोन आए

अप्रैल और मई में कोविड मरीजों के लिए ऑक्सीजन व रेमडेसिविर की किल्लत सबसे अधिक रही, लेकिन कोविड कंट्रोल रूम में इन दोनों चीजों के लिए सबसे कम फोन कॉल आए हैं। 16 हजार में से ऑक्सीजन के लिए महज 21 और रेमडेसिविर के लिए 25 फोन कॉल आए।

कंट्रोल रूम फोन करने के बाद भी लोगों को ऑक्सीजन व रेमडेसिविर आसानी से नहीं मिल सकें। इसलिए इन दोनों के लिए कंट्रोल रूम में अधिक फोन कॉल नहीं आए। बेड के बारे में भी महज 194 लोगों ने पूछा, लेकिन वैक्सीन कब लगेगी? इसके बारे में 2 हजार 499 लोगों ने फोन कॉल किए।

मार्च में दूसरी लहर आई, मई में आए 12 हजार से अधिक फोन

कोविड कंट्रोल रूम में सिर्फ मई माह में ही 12 हजार 405 फोेन कॉल आए हैं, क्योंकि मई में संक्रमण की रफ्तार मार्च व अप्रैल की तुलना में काफी अधिक रही। मार्च के अंत में कोविड कंट्रोल रूम शुरू किया गया। तब सिर्फ 13 कॉल ही आ पाए।

इसके बाद अप्रैल में 3 हजार 958 और मई में 12 हजार से अधिक फोन कॉल आए, हालांकि इनमें से काम के 2 हजार 739 फोन ही रहे। बाकी में लोगों ने फिजूल की बातें व अनलॉक से जुड़े सवाल पूछे।

खबरें और भी हैं...