पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

तालाब की नपती:लोगों ने खजाने के चक्कर में सालों पहले चांदा पत्थर को ही उखाड़ दिया

सागरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कलेक्टर ने सीमांकन के लिए बनाई कमेटी, कार्रवाई शुरू

नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) में सागर तालाब के अतिक्रमण को लेकर लगाई गई याचिका के बाद अब जिला प्रशासन ने लाखा बंजारा झील (तालाब) का सीमांकन शुरू कर दिया है। कलेक्टर ने सीमांकन के लिए कमेटी बनाई है, जिसने बुधवार को छोटे तालाब की ओर टीएसएम (टोटल स्टेशन मशीन) से नपती की कार्रवाई शुरू की। हालांकि पुराने चांदा-पत्थर (सीमांकन के निशान) नहीं मिलने के कारण अब बालक कॉम्पलेक्स की ओर से मार्किंग की जा रही है। यहां वर्षों पुराना एक कुंआ है, जिसको आधार मानकर आगे की कार्रवाई की जाएगी। चर्चा यह भी है कि यहां जो पुराने पत्थर लगे हुए थे, जिन्हें खजाने के चक्कर में लोगों ने उखाड़ दिया है। बुधवार को राजस्व विभाग, भू-अभिलेख और नगर निगम की टीम ने अटल पार्क से तालाब की ओर टीएसएम मशीन से सर्वे शुरू किया, लेकिन पुराने पाइंट यहां भी नहीं मिले। दरअसल, पार्क का निर्माण होने की वजह से पुरानी मार्किंग भी हटा दी गई है। इसलिए अब नए सिरे से पाइंट तैयार करने होंगे। टीम अब तालाब के पीछे के हिस्से से नाप शुरू करेगी। नपती कर रहे अधिकारियों ने बताया कि टीएसएम में रीडिंग से पहले अभिलेख में दर्ज नक्शे से पाइंट लगाने पड़ते हैं।

मशीन अभी तक लगाए गए कई पाइंट पर रीडिंग सही नहीं दे रही है। जिसके कारण टीम को फिर पाइंट फिक्स करने पड़ रहे हैं। पाइंट के फिक्स होने के बाद टीम एक बार नक्शे से मिलान करेगी। जिसके बाद कुछ ही घंटे में आसानी से नपती की जा सकेगी। इसलिए अभी पहले मार्किंग करना जरूरी है। उसके बाद ही मशीन की रीडिंग से तालाब की सीमाओं का नक्शे में मिलान किया जा सकेगा।

भू-अभिलेख विभाग में है अंग्रेजों के समय का नक्शा
भू-अभिलेख विभाग में वर्ष 1911-12 का नक्शा है, जिसके आधार पर अब तालाब में काफी अंतर आ गया है। उस समय के नक्शे में तालाब के क्षेत्र में काफी बदलाव है। खसरा नंबर 533 (0.595) तकरीबन 4.63 एकड़ जमीन सड़क के उपयोग में ली गई है। यह सड़क हनुमान मंदिर से तिली की ओर जाती है।

सड़क के चौड़ीकरण के बाद गऊघाट, झील बोट क्लब, चकराघाट, रानीपुरा, मोगा बंधान और संजय ड्राइव और छोटा तालाब की ओर की जमीन में भी अंतर आया है। जबकि अभी सरकारी रिकॉर्ड में छोटे तालाब का खसरा नंबर 437 है, जिसमें 40.280 हेक्टेयर (99 एकड़) में फैला हुआ है। जबकि बड़े तालाब का खसरा नंबर 435 हैं, जो 112.380 हेक्टेयर (277 एकड़) में फैला हुआ है।

खबरें और भी हैं...