पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Sagar
  • Rabri, Shrikhand, Peda Will Also Be Built; Plant Ready At Bundelkhand Cooperative Milk Union At A Cost Of 40 Crores

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

प्रदेश का पहला ऑटोमैटिक मिल्क प्लांट तैयार:रबड़ी, श्रीखंड, पेड़ा भी बनाए जाएंगे; बुंदेलखंड सहकारी दुग्ध संघ में 40 करोड़ की लागत से प्लांट बनकर तैयार

सागर9 दिन पहलेलेखक: श्रीकांत त्रिपाठी
  • कॉपी लिंक
सागर | दुग्ध संघ प्लांट में मशीनें लगाई जा चुकी हैं। इसी महीने काम शुरू करने की है प्लानिंग। - Dainik Bhaskar
सागर | दुग्ध संघ प्लांट में मशीनें लगाई जा चुकी हैं। इसी महीने काम शुरू करने की है प्लानिंग।

सिरोंजा स्थित बुंदेलखंड सहकारी दुग्ध संघ मर्यादित में 40 करोड़ की लागत से फुल ऑटोमैटिक मिल्क प्रोसेसिंग प्लांट शुरू होने जा रहा है। यह प्रदेश का पहला ऐसा प्लांट है, जिसमें केवल एक व्यक्ति कम्प्यूटर पर बैठकर पूरे प्लांट को न केवल ऑपरेट कर सकता है, बल्कि 20 प्रकार के उत्पादों की पैकिंग और मशीनों की सफाई भी ऑटोमैटिक ही होगा। जबकि भोपाल, जबलपुर और इंदौर जैसे शहरों के प्लांट अभी सेमी-ऑटोमैटिक हैं।

प्लांट के लिए नेशनल डेयरी डेवलपमेंट बोर्ड आणंद गुजरात से मशीनें बुलाई गई है और वहीं के इंजीनियर इन्हें इंस्टॉल भी कर रहे हैं। प्लांट का 90 फीसदी काम पूरा हो चुका है। अफसरों की माने तो 26 जनवरी के पहले ही इस प्लांट का शुभारंभ कर दिया जाएगा।

बुंदेलखंड में बनेगा घी, 200 ग्राम से एक किग्रा की पैकेजिंग होगी
मशीनों की कमी के चलते फिलहाल बुंदेलखंड सहकारी दुग्ध संघ केवल दूध की वैरायटी ही बना रहा था। लेकिन अब दूध की 7 वैरायटी के साथ सादा व मीठा दही, छांछ, मिल्क केक, श्रीखंड, छैना रबड़ी, नारियल बर्फी और पेड़ा आदि का निर्माण भी करेगा। प्लांट में प्रदेश की पहली घी क्लेरिफायर मशीन लगाई है। जिसके चलते अब बुंदेलखंड के दूध से ही घी भी बनेगा। इतना ही नहीं घी की स्पाउट्स पैकिंग देने वाला भी बुंदेलखंड दुग्ध संघ प्रदेश में पहला है। इसमें 200 ग्राम से लेकर 1 किलो तक की पैकिंग होगी। ये सभी प्रोडक्ट्स सांची के नाम से ही बाजार में उतरेंगे।

अभी भोपाल और जबलपुर भेजा जा रहा दूध, इस प्लांट से उत्पादन 50 हजार से 1 लाख लीटर तक करने का लक्ष्य
बुंदेलखंड सहकारी दुग्ध संघ मर्यादित के प्रभारी संयंत्र संचालन कमल यादव ने बताया कि बुंदेलखंड में फिलहाल 50 हजार लीटर दूध प्रतिदिन की आवक है। मिल्क प्रोसेसिंग प्लांट छोटा होने के कारण यहां के दूध को भोपाल और जबलपुर भेजा जा रहा था, लेकिन अब यहां के दूध का फायदा स्थानीय लोग उठा सकेंगे। वहीं दुग्ध उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए कई योजनाएं भी चलाई जाएंगी।

पूरी तरह से हाईजीनिक होगा सागर का दूध
फुली ऑटोमैटिक होने के कारण बुंदेलखंड दुग्ध संघ का हर प्रोडक्ट पूरी तरह से हाईजीनिक होगा। इसके अलावा समय, मैनपावर, बिजली व पानी आदि की बचत होगी। प्लांट लगभग बनकर तैयार है। इसे जनवरी के अंतिम सप्ताह तक शुरू कर दिया जाएगा। - केएस मिश्रा, मुख्य कार्यपालन अधिकारी

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आपने अपनी दिनचर्या से संबंधित जो योजनाएं बनाई है, उन्हें किसी से भी शेयर ना करें। तथा चुपचाप शांतिपूर्ण तरीके से कार्य करने से आपको अवश्य ही सफलता मिलेगी। परिवार के साथ किसी धार्मिक स्थल पर ज...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser