बाल विवाह / रिश्तेदार बोले-लड़का बालिग है, शादी हो जाने दो, टीम ने कानून बताया, रोका विवाह

X

  • मालथौन के चुरारी गांव का मामला, लॉकडाउन के दौरान 60 दिन में रोके 25 बाल विवाह

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 05:00 AM IST

सागर. विशेष किशोर पुलिस इकाई ने मालथौन ब्लॉक के चुरारी गांव में बीते चार दिन में दूसरा बालविवाह रोका है। यहां टीम पहुंची तो रिश्तेदार बोले कि लड़का बालिग है। 19 वर्ष का है। शादी हो जाने दीजिए। टीम ने कानून का पाठ पढ़ाया तो विवाह रोकने के लिए तैयार हो गए। इकाई की ज्योति तिवारी ने बताया कि मालथौन थाने के तहत आने वाली बरोदिया चौकी के चुरारी गांव में यादव समाज के नाबालिग लड़के का विवाह होने की सूचना मुखबिर ने दी थी। टीम तुरंत मौके पर रवाना हो गई।
मालथौन थाने से पुलिस बल लेकर टीम गांव पहुंची। गांव में विवाह की तैयारियां जोरों पर थी। वैवाहिक रस्में कराई जा रही थीं। चूकिं विवाह चुरारी गांव में ही रहने वाली लड़की से हो रहा था। लिहाजा दोनों ही पक्षों के रिश्तेदार और मेहमान मौके पर थे। टीम जैसे ही विवाह स्थल पहुंची तो सभी रिश्तेदार घर से बाहर निकल आए। वे कहने लगे कि लड़का बालिग है। 19 वर्ष का है। यह शादी हो जाने दीजिए। टीम ने उन्हें बताया कि कानूनन लड़के की शादी की उम्र 21 वर्ष एवं लड़की की 18 वर्ष है। इससे पहले शादी करना अपराध है।
भोपाल विधायक से परमिशन लेकर आया हूं
भोपाल से आया एक रिश्तेदार कहने लगा कि इस शादी की विधायक भोपाल से परमिशन लेकर आया हूं। वहां के टीआई को भी बता कर आए हैं। इसलिए यह शादी होगी। टीम ने कहा कि बालविवाह में किसी भी विधायक, टीआई की परमिशन नहीं चलती।  यह बाल विवाह नहीं होगा। जिससे शिकायत करनी है कर आओ। इसके बाद सभी लोग विवाह नहीं करने पर सहमत हो गए।

लॉकडाउन के दौरान रोके 25 बालविवाह
विशेष किशोर पुलिस इकाई ने लॉकडाउन अवधि (60 दिन) के दौरान 25 बाल विवाह रोके हैं। चुरारी गांव में रोका गया यह 25वां बालविवाह था। टीम में अविनाश रजक, बरोदिया चौकी की पुलिस शामिल थी।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना