आषाढ़ का आखिरी मंगलवार / सिद्धेश्वर में हुए राजस्थान की श्रीनाथजी की झांकी के दर्शन, डूंठावली को पहनाई चांदी की पोशाक, चढ़े ध्वज

Shrine of Shrinathji of Rajasthan in Siddheshwar, silver dress worn on a sting, and flag hoisted
X
Shrine of Shrinathji of Rajasthan in Siddheshwar, silver dress worn on a sting, and flag hoisted

  • हनुमान मंदिरों में विशेष पूजा-अर्चना, दोपहर में राजभोग तो रात में हुई महाआरती

दैनिक भास्कर

Jul 01, 2020, 04:36 AM IST

सागर. आषाढ़ के चौथे और आखिरी मंगलवार को हनुमान मंदिरों में बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंचे। सभी जगह विशेष पूजा अर्चना हुई। सुबह अभिषेक हुआ। दोपहर में राजभोग लगा। रात में महाआरती हुई। कोरोना वायरस की गाइडलाइन के चलते इस बार मंदिरों में उन श्रद्धालुओं को प्रवेश मिला, जो मास्क लगाकर आए। सोशल डिस्टेंस का पालन कराते हुए भक्तों को हनुमानजी के दर्शन कराए गए। आखिरी मंगलवार को बड़ा बाजार स्थित सिद्धेश्वर हनुमान मंदिर में राजस्थान के श्रीनाथजी का श्रृंगार किया गया। इस प्रकार लोगों को श्रीनाथजी के दर्शन हनुमानजी की प्रतिमा से कराए गए। सिद्धेश्वर हनुमान मंदिर बड़ा बाजार में 56 भोग अर्पित किए गए।

आखिरी मंगलवार होने के चलते गढ़पहरा स्थित हनुमान मंदिर में बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंचे। यहां हर बार की तरह परंपरागत मेला इस बार नहीं लग सका, लेकिन परंपरा का निर्वहन करते हुए आखिरी मंगलवार को बड़ी संख्या में भक्तों ने पहुंचकर ध्वज अर्पित किए। यहीं पर स्थित अनगढ़ देवी के दर्शन के लिए भी श्रद्धालु पहुंचे। कई बार भीड़ अनियंत्रित होती भी दिखी लेकिन व्यवस्था संभाल रहे लोगों ने श्रद्धालुओं को सोशल डिस्टेंस के तहत ही दर्शन करने की न सिर्फ अपील की बल्कि सभी को बार-बार कतारबद्ध भी किया।

वहीं नागेश्वर मंदिर में हनुमानजी को पीपल के पत्तों से एवं जासौन के पत्तों से विशेष श्रृंगार किया गया। वहीं डूंठावली हनुमानजी मंदिर में चांदी की पोशाक से विशेष श्रृंगार हुआ। इनके अलावा पहलवान बब्बा मंदिर, दादा दरबार, परेड मंदिर सहित नगर के सभी हनुमान मंदिरों में आषाढ़ के आखिरी मंगलवार को विशेष पूजा-अर्चना हुई। सभी जगह बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंचे।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना