पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

उपचुनाव:सुरखी में जनता का मौन हठ, कहते हैं हमसे चुनाव की ने पूछो, शांति से रेन दो, को कौन के संगे है जो कोऊ नईं जानत

सागरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • बुजुर्गों से लेकर युवा तक चुनावी चर्चा से काट रहे कन्नी

(संदीप तिवारी) सुरखी विधानसभा क्षेत्र में उपचुनाव का प्रचार चरम पर है। प्रत्याशी घर-आंगन से लगाकर चूल्हे चौके तक पहुंच रहे हैं। कोई हाथ जोड़कर तो कोई रोटी तक बनाकर वोटर को मना रहा है। कक्का, काकी, ताऊ-ताई, भैया-भाभी से लेकर बच्चों तक को स्नेह दिखाकर प्रत्याशी मतदाताओं को रिझाने में लगे हुए हैं।

इन सबके बाद भी सुरखी कस्बे के लोग मौन साधे हुए हैं। देश दुनिया की बात करो तो खुल कर बात करते हैं, लेकिन जैसे ही चुनाव की पूछ लो तो ऐसे मौन हो जाते हैं कि मौनी भी सोच में पड़ जाए। कुछ एक मौन तोड़ते भी हैं तो सिर्फ यह कहने कि हमसे चुनाव की ने पूछो। शांति से रेन दो, चुनाव तो ई बेर टसल वारो हुइए।

वोटिंग से महज 17 दिन पहले मतदाताओं का यह मौन हठ नेताओं के लिए चिंता पैदा कर रहा है। उनके सामने कई सवाल भी खड़े कर रहा है, संभव है सबके जवाब 10 नवंबर को ही सामने आएंगे। भास्कर ने सुरखी पहुंचकर क्षेत्र के लोगों की नब्ज टटोली तो सामने आया कि मतदाताओं ने इसलिए भी मौन साध रखा है, क्योंकि दोनों ही प्रत्याशी क्षेत्र से भली भांति परिचित हैं।

ऐसे में स्थानीय लोगों में कौन किसके लिए खुलकर काम कर रहा है तो कौन गुप्त में रहकर, यह कहना मुश्किल है। इसीलिए लोगों ने स्वयं को किसी भी पक्ष का तमगा लगने से बचाने के लिए मौन हठ का रास्ता चुन लिया है। बाजार में सब्जी की दुकान लगाए एक बुजुर्ग कहते हैं। नाम तो नहीं बता रहे, मनो जो है कि हमाये इते चुनाव आ गए हैं फिर सें। रई हम ओरों की समस्याओं की बात तो वे तो कभऊं हल होतई नइयां। हम तो जई के सकत हैं के सब ठीक है। पानी की समस्या मेन है। ईके अलावा कोनऊ धंधा-पानी भी नइयां।

हमें तो ने कुटी (आवास) मिली और ने गांव में अच्छी सड़के हैं। ई बेर को चुनाव टसल वारो हुईए। यहीं पर बाजार में खरीदारी करने आए नजदीक के ही गांव चंद्रापुर के वीर सिंह कहते हैं कि चुनाव खों ले के हम तो अबे कछू नईं के रये। हमें जान दो, और शांति से रेन दो। ई बेर को कौन के संगे है, जा कोऊ नईं जानत। इसी प्रकार एक युवा तो चिल्लाकर बोल उठा-आप लोगों को हमसे कुछ दिक्कत है क्या? चुनाव पर चर्चा करने के अलावा कुछ और काम नहीं है। हमें मत फंसाओ इसमें। इतना बोलकर वह वहां से चल दिया।

राजू रैकवार ने बताया कि पेलें हती 1 टंकी सो 3 टेम नल आत हते, अब हो गईं 3 टंकी सो 3 दिन में एक दिन नल आत हैं। गर्मियों में तो बड़ी समस्या होत है। रई चुनाव की तो वो तो ई बेर जोरदार है। मनो हमसे जा ने पूछो के को कौन की तरफ है। सब 3 तारीख खों पता चल है।

5 ग्राम पंचायतों को मिलाकर हाल ही में बनी है नगर परिषद
सुरखी जिसके नाम पर क्षेत्र की विधानसभा का नाम है, वह दो माह पहले तक एक ग्राम पंचायत ही थी। हाल ही में 5 ग्राम पंचायतों को मिलाकर उसे नगर परिषद का दर्जा मिल गया है। हालांकि यहां पर अब तक न तो सीएमओ की पदस्थापना हुई है और न ही मालथौन और बांदरी की तरह कोई नगर परिषद की प्रशासकीय समिति बनी है। ऐसे में फिलहाल ग्राम पंचायत के सरपंच-सचिव ही यहां काम कर रहे हैं।

सुरखी कस्बा एक नजर में
कुल आबादी - 8370
कुल मतदाता - 5934
अब तक मिले आवास - 179

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- दिन उन्नतिकारक है। आपकी प्रतिभा व योग्यता के अनुरूप आपको अपने कार्यों के उचित परिणाम प्राप्त होंगे। कामकाज व कैरियर को महत्व देंगे परंतु पहली प्राथमिकता आपकी परिवार ही रहेगी। संतान के विवाह क...

और पढ़ें