पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Sagar
  • So Far, 33 Positives Have Been Found In Bhagwan Of Chhatarpur, 277 In Baldevgarh Khargapur, People Of Hinauti Village Of Damoh Imposed Lockdown On Their Own.

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

गांवों में जनता कर्फ्यू:छतरपुर के भगवां में अब तक 33 पॉजिटिव मिले, बल्देवगढ़-खरगापुर में 277, दमोह के हिनौती गांव के लोगों ने खुद लगाया लॉकडाउन

सागर13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • प्रशासन ने सुध नहीं ली तो गांव वालों ने ही संभाला मोर्चा, खुद ही करते हैं बैरीकेडिंग और बाहर से आने वाले से पूछताछ

बेलगाम होते कोरोना संक्रमण ने अब गांवों को भी अपनी चपेट में लेना शुरू कर दिया है। बुंदेलखंड के कई गांव ऐसे हैं जहां संक्रमण के कारण लोगों की जान भी जा रही है। दमोह जिले के फुटेराकलां गांव में 18 लोगों की मौत हो चुकी है। जिससे गांव में सन्नाटा छाया है। लोगों ने घर से निकलना बंद कर दिया है। वहीं दमोह का ही हिनौताकलां गांव दूसरे गावों को सीख दे रहा है। पिछले दिनों उपचुनाव की वजह गांव में 48 पॉजिटिव मिले, जिनमें से सात लोगों की मौत हो गई।

इस गांव के लोगों ने स्वयं ही अपने गांव में लॉकडाउन लगा लिया था। गांव वालों की जागरुकता के चलते अब कोरोना की चैन टूट गई है। पिछले 15 दिन से यहां एक भी पॉजिटिव मरीज नहीं निकला। जबकि यहां लगातार सैंपलिंग की जा रही है। इतना ही नहीं गांव में किसी की मौत भी नहीं हुई। 41 लोग कोरोना को हरा चुके हैं। बुुंदेलखंड के छतरपुर-टीकमगढ़ और सागर में भी गांव वाले कोरोना को हराने में हर संभव प्रयास कर रहे हैं। गांव वाले हर आने जाने वाले लोगों से पूछताछ करते हैं और बाहर से आने वाले लोगों को क्वारेंटाइन करवाते हैं।

बिजावर क्षेत्र के गुलाट गांव के जागरूक ग्रामीणों ने अनूठा प्रयास किया है। ग्रामीणों ने गांव से बाहर न निकलने की जिम्मेदारी स्वयं ली है, इसके तहत ग्रामीणों ने गांव के सभी प्रमुख पहुंच मार्गों पर लकड़ी और बांस से बैरीकेटिंग कर दी है। बैरिकेडिंग में “मेरा गांव मेरी जिम्मेदारी’’ स्लोगन लिखीं तख्तियां भी लगाई हैं। सरपंच राजेंद्र सिंह ने बताया कि बाहर से लोगों के गांव आने पर भी निगरानी रखी जाएगी। अति आवश्यक होने पर जांच पश्चात ही बाहरी लोगों को गांव में प्रवेश दिया जाएगा। बिजावर थाना प्रभारी राजकुमार तिवारी की समझाइश पर ग्रामीणों ने बैठक कर निर्णय लिया है और सीमा पर “मेरा गांव मेरी जिम्मेदारी’ स्लोगन लिखीं की तख्तियां प्रतिबंधित क्षेत्र में लगाई गयीं हैं।

टीकमगढ़: जागरुक गांव वालों ने सीमाएं सील करना शुरू की, बाहरी का प्रवेश बंद

संजय जैन| टीकमगढ़ जिले के बल्देवगढ़ और खरगापुर में अब तक 277 मरीज मिल चुके हैं। ग्राम पंचायत भानपुरा में ग्रामीणों ने बाहर से आए लोगों को रोकने के लिए गांव की मुख्य सड़क पर बेरीकेड्स लगा दिए हैं। पंचायत सचिव देवेन्द्र तिवारी ने बताया कि दिल्ली व अन्य महानगरों में काम करने के लिए गांव के कई लोग पलायन करके चले गए थे। महानगरों में कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए बाहर गए लोग वापस लौट रहे हैं। सबको क्वारेंटाइन करवाते हैं।

छतरपुर: नैगुवां, ढिगपुरा, देवरा गांव में ग्रामीणों ने की बैरीकेडिंग

संदीप असाटी| बड़ामलहरा जनपद के ग्राम भगवां में लापरवाही के संक्रमण बढ़ रहा है। यहां अब तक 33 मरीज मिले हैं, जिनमें 9 स्वस्थ हो गए। एक सप्ताह में 15 संक्रमित मिले हैं, आज 24 एक्टिव मरीज हैं, सभी होम आइसोलेट हैं। वहीं छतरपुर जिले के नैगुवां , नौगांव जनपद के ग्राम ढिगपुरा, बिजावर जनपद के देवरा गांव, जनपद पंचायत गौरिहार के चौहानी गांव में लोगों ने जागरुकता दिखाते हुए गांव में बैरीकेडिंग कर दी है। हर आने-जाने वाले से पूछताछ हो रही है।

सागर: रहली में सात दिन में 29 केस मिले
ब्रजेश वर्मा|
सागर जिले के रहली में एक सप्ताह के अंदर 29 केस मिले हैं। तिंसी, ग्वारी, दरारिया, पटनाबुजुर्ग, पड़रिया, चांदपुर, महूना, खैराना गांव में भी कोरोना पैर पसार रहा है। ग्रामों में आशा कार्यकर्ता, एएनएम, ग्राम रोजगार सहायक, सचिव और पटवारी की टीम बनाई गई है।
बीना: देहरी गांव में एक भी संक्रमित नहीं

प्रमोद सैनी| दूसरी लहर में शहर के बाद अब गांव में भी तेजी से कोरोना संक्रमण बढ़ने लगा है, लेकिन देहरी गांव में लोगों की जागरुकता से अभी तक एक भी मरीज नहीं मिला। ग्राम देहरी पंचायत सचिव सुरेश राय ने बताया कि देहरी पंचायत कि आबादी 5000 है। फिर भी गांव में आज दिनांक तक एक भी मरीज पॉजिटिव नहीं पाया गया है। जिसका कारण लोगों में जागरुकता आई है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- समय अनुसार अपने प्रयासों को अंजाम देते रहें। उचित परिणाम हासिल होंगे। युवा वर्ग अपने लक्ष्य के प्रति ध्यान केंद्रित रखें। समय अनुकूल है इसका भरपूर सदुपयोग करें। कुछ समय अध्यात्म में व्यतीत कर...

    और पढ़ें