ई-ऑफिस लागू:फाइलों के निराकरण में आएगी तेजी, भू-अभिलेख से हुई शुरूआत

सागर4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
जिले के सभी बड़े सरकारी दफ्तर ई-ऑफिस में हो जाएंगे तब्दील। - Dainik Bhaskar
जिले के सभी बड़े सरकारी दफ्तर ई-ऑफिस में हो जाएंगे तब्दील।

सरकारी दफ्तरों में अब बार-बार चक्कर काटने की जरुरत नहीं पड़ेगी। जिले में ई-ऑफिस प्रणाली को लागू कर दिया गया है। इससे अधिकारियों को समय-सीमा में फाइलों का निराकरण करना होगा। इसकी शुरूआत भू-अभिलेख से की गई है। जिला सूचना विज्ञान केन्द्र द्वारा इस प्रणाली को लागू किया गया है। सरकारी कामकाज व फाइलों के निराकरण में गति लाने के लिए कलेक्टर दीपक आर्य ने इसका शुभारंभ किया।

जिला सूचना विज्ञान अधिकारी प्रशांत करोले ने बताया कि जिले के सभी बड़े सरकारी दफ्तर ई-ऑफिस में तब्दील हो जाएंगे। सरकारी काम में पारदर्शिता, समय-सीमा और जवाब देही तय करने के लिए इसे लागू किया गया है। इसके तहत दफ्तरों में भरी रहने वाली फाइलें अब ई-फाइल में तब्दील हो जाएंगी। सारी लिखा-पढ़ी का काम ई-फाइलों में होगा। जो शिकायत या पत्र कागजों में आएगा उसे भी संबंधित कर्मचारी को अपनी ई-फाइल में रखना होगा।

इस प्रणाली में सरकारी फाइलें अब नहीं गुमेगी

इसके लिए कलेक्टर कार्यालय एवं अन्य ऑफिस के अधिकारी/कर्मचरियों को लॉग-इन आईडी व पासवर्ड दिया जाएगा। सचिवालय से कोई आदेश होते ही संबंधित अधिकारी के मैसेज बॉक्स में आ जाएगा। उसके बाद वे लॉग-इन कर उस पर कार्यवाही करेंगे। ई-ऑफिस के कई फायदे होंगे। इस प्रणाली में कोई भी फाइल गायब नहीं होगी एवं फाइल को ढूंढना भी आसान होगा। कम्प्यूटर खराब होने की स्थिति में डाटा गायब नहीं होगा। यह सब कुछ ई-ऑफिस के फाइल मैनेजमेंट सिस्टम में स्टोर रहेगा।

खबरें और भी हैं...