पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नाैरादेही अभयारण्य:नाैरादेही में बाघ के परिवार काे आहार का संकट, पेंच अभयारण्य से लाए गए 63 चीतल

सागर14 दिन पहलेलेखक: राजकुमार प्रजापति
  • कॉपी लिंक
नौरादेही में बाघों के भोजन के लिए पेंच अभयारण्य से 41 चीतलों को छोड़ा गया। वाहन से उतरते चीतल। - Dainik Bhaskar
नौरादेही में बाघों के भोजन के लिए पेंच अभयारण्य से 41 चीतलों को छोड़ा गया। वाहन से उतरते चीतल।
  • 1000 चीतल लाने की है तैयारी, बाघ-बाघिन से जन्मे तीनाें शावक हाे गए जवान
  • अफ्रीकन चीताें के लिए एक-दाे दिन में फिर आएगा डब्लूआईआई का सर्वे

अफ्रीकन चीताें के लिए तैयार हाे रहे नाैरादेही अभयारण्य में बाघ-बाघिन और जवां हाेते तीन शावकाें के लिए ही पर्याप्त आहार नहीं मिल पा रहा है। वे भूखे न रहे इसलिए दूसरी सेंचुरी से जानवर लाए जा रहे हैं। नाैरादेही में पेंच अभयारण्य से अभी तक 63 चीतल आ चुके हैं। करीब 1000 चीतल लाने की तैयारी है। अभयारण्य में भी कई शाकाहारी जीव हैं, लेकिन इनकी संख्या पहले से कम हाे गई है।

जिससे बाघ के बढ़ते परिवार का पेट भरने के लिए अलग से आहार का प्रबंध करना पड़ रहा है। बाघ किशन और बाघिन राधा से जन्में शावकाें में दाे मादा व एक नर हैं। तीनाें दाे साल से ज्यादा उम्र के हाे गए हैं। मां के अलावा शावक अब खुद भी शिकार पर निकलने लगे हैं। जंगल में उन्हें कई बार शिकार लायक जीव नहीं मिल पाते। इस स्थिति में उनके लिए पर्याप्त आहार नहीं मिल पाता।

इस संकट काे दूर करने के लिए नाैरादेही वन मंडल ने शावकाें के जन्म के बाद पेंच अभयारण्य से 1000 चीतल लाने की डिमांड भेजी थी। दाे शिफ्ट में 63 चीतल आ चुके हैं। जल्द कुछ और चीतल आने वाले हैं। नाैरादेही के प्रभारी डीएफओ नवीन गर्ग ने बताया कि दाे-तीन दिन पहले ही मैंने नाैरादेही का चार्ज लिया है। पेंच से चीतल लाए जा रहे हैं। इस संबंध में वन अधिकारियाें से जानकारी ले रहा हूं। बाघाें के लिए आहार की कमी नहीं हाेने देंगे।

दूसरी बार दाैरे पर आ रहे देहरादून के वाइल्ड लाइफ एक्सपर्ट करीब 1 महीने तक यहां रुकेंगे

डीएफओ गर्ग ने बताया कि अफ्रीकन चीताें की शिफ्टिंग के लिए डब्ल्यूआईआई का सर्वे दल एक-दाे दिन में नाैरादेही पहुंचेगा। दूसरी बार दाैरे पर आ रहे देहरादून के वाइल्ड लाइफ एक्सपर्ट करीब 1 महीने तक यहां रुकेंगे और चीताें के अभयारण्य में बसेरे के लिए संभावनाएं तलाशेंगे। दाे महीने पहले भी सर्वे हुआ था।

मप्र के तीन अभ्यारण्याें का चयन चीता शिफ्टिंग के लिए हुआ है। इनमें कूनाे पालपुर, गांधी सागर व नाैरादेही अभ्यारण्य शामिल है। पहले सर्वे के बाद कूनाे पालपुर में चीता लाने के लिए हरीझंडी मिली है। नाैरादेही में चीता शिफ्टिंग के लिए फिर से सर्वे हाे रहा है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थिति आपके लिए बेहतरीन परिस्थितियां बना रही है। व्यक्तिगत और पारिवारिक गतिविधियों के प्रति ज्यादा ध्यान केंद्रित रहेगा। बच्चों की शिक्षा और करियर से संबंधित महत्वपूर्ण कार्य भी आ...

    और पढ़ें