कार्रवाई / भगवानगंज और शनीचरी में दो झोलाछाप डॉक्टरों के क्लीनिक सील, अन्य बंद मिले

X

  • 5 क्लीनिक और 2 मेडिकल स्टोर पर कार्रवाई
  • एलोपैथी ट्रीटमेंट पर एक बीएएमएस डॉक्टर को थमाया नोटिस

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 05:00 AM IST

सागर. सदर और सिंधी कैंप में झोलाछाप डॉक्टर से फैले संक्रमण का मामला सामने आने के बाद अब स्वास्थ्य विभाग ने फर्जी डॉक्टरों के खिलाफ कार्रवाई को लेकर कमर कस ली है। दो दिन पहले जहां कोरोना पॉजिटिव और नरयावली के झोलाछाप डॉक्टरों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई गई, वहीं शुक्रवार को 5 क्लीनिक और 2 मेडिकल स्टोरों पर स्वास्थ्य विभाग की टीम ने छापामार कार्रवाई की। 
इस दौरान भगवानगंज और शनीचरी क्षेत्र में बिना डिग्री के लोगों का इलाज कर रहे झोलाछाप डॉक्टरों की क्लीनिक सील की गई, वहीं इन्हीं क्षेत्रों में दो की क्लीनिक बंद मिली। इसके अलावा बड़ा बाजार के एक बीएएमएस डॉक्टर द्वारा एलोपैथी इलाज करने पर उसे नोटिस थमाया गया है। दो मेडिकल स्टोरों पर हुई कार्रवाई में फार्मासिस्ट और दस्तावेजों की कमी होने के कारण इन्हें भी बंद कराया गया। कार्रवाई के दौरान सीएमएचओ डॉ. एमएस सागर, जिला मलेरिया अधिकारी डॉ. एलएस शाक्य, कैंट थाना प्रभारी, डॉ. एमएल जैन, डॉ एलएस शाक्य और पंजीयन शाखा प्रभारी अरुण प्रजापति शामिल थे।

  • कार्रवाई-1 स्वास्थ्य विभाग की टीम ने सबसे पहले भगवानगंज स्थित कमलेश ठाकुर की क्लीनिक पर छापामारा। खुद को डॉक्टर बताने वाले इस झोलाछाप के पास बीईएमएस नाम की डिग्री थी, जो कि प्रैक्टिस के लिए मान्य ही नहीं है। वहीं क्लीनिक में एलोपैथी दवाएं भी मिलीं। पूजा मेडिकल के नाम से क्रय बंदी थी और विभिन्न दवा सप्लायरों से दवाएं खरीदी की रसीदें भी पाई गईं।  
  • कार्रवाई-2  शनीचरी में आयुर्वेदिक दवाखाना खोलकर बैठे 65 वर्षीय अयूब खान को भी प्रैक्टिस करते पकड़ा गया। इनके पास कोई मान्य डिग्री नहीं थी। टीम ने झोलाछाप से भविष्य में क्लीनिक न खोलने का वचन पत्र भी लिया गया। 
  • कार्रवाई-3 शनीचरी में उस्मानी दवाखाना का निरीक्षण किया, जो कि बंद मिली। पड़ोसियों ने बताया गया कि डॉ. कटनी से आते हैं। लेकिन लॉक डाउन के कारण वर्तमान में क्लीनिक नहीं खोली जा रही है।  
  • कार्रवाई-4 बड़ा बाजार स्थित डॉ. मुरारी लाल सोनी की क्लीनिक का निरीक्षण किया गया, क्लीनिक के पास मेडिकल स्टोर संचालक द्वारा बताया गया कि चिकित्सक एलोपैथिक पद्धति से इलाज करते हैं, जिसके बाद बीएएमएस डिग्रीधारी डॉक्टर को नोटिस जारी कर जवाब मांगा गया है।  
  • कार्रवाई-5 भगवानगंज स्थित बाबूलाल की क्लीनिक का निरीक्षण किया गया, लेकिन क्लीनिक बंद थी। मेडिकल स्टोर से जानकारी मिली की लॉक डाउन के कारण क्लीनिक बंद है।  टीम ने झोलाछाप डॉक्टरों के अलावा दो मेडिकल स्टोरों पर भी कार्रवाई की। इनमें एक झांसी रोड स्थित रोशनी मेडिकल स्टोर पर निरीक्षण के दौरान पात्र फार्मासिस्ट होना नहीं पाए गए, जिसके बाद मेडिकल स्टोर बंद कराया गया। वहीं बड़ा बाजार स्थित रिषभ कुमार सिंघई दीपक मेडिकल स्टोर पर लाइसेंस के दस्तावेज उपलब्ध नहीं थे। जिसके बाद स्टोर मालिक को 3 दिन के भीतर दस्तावेज प्रस्तुत करने के निर्देश दिए गए हैं।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना