राजघाट:एक पनडुब्बी व एक बेस पंप से खींचेंगे पानी, जरूरत पड़ने पर उज्जैन के पंपों का भी होगा उपयोग

सागर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
राजघाट में पानी लिफ्ट करने और पाइपलाइन के लिए बनाई जा रही कैनाल। - Dainik Bhaskar
राजघाट में पानी लिफ्ट करने और पाइपलाइन के लिए बनाई जा रही कैनाल।

राजघाट बांध में लगातार घट रहे जल स्तर को देखते हुए पानी की लिफ्टिंग मई महीने से ही शुरू की जाना है। पिछले साल से कम पानी होने की वजह से इस बार यह तैयारियां पहले से की जा रही है। मेंटनेंस टीम द्वारा राजघाट बांध में फ्लोटिंग प्लेटफॉर्म को ज्यादा पानी वाले इलाके में लगाया है। इसमें एक पनडुब्बी और एक बेस पंप लगाया गया है, जो सीधा क्लियर वाटर पंप तक पानी भेजेगा। गुरूवार को 250 एमएम चौड़ी पाइप लाइन बिछाने के लिए कैनाल बनाई गई है। उधर, उज्जैन के पंपों भी पानी में हैं, जिन्हें जरूरत पड़ने पर उपयोग किया जाएगा।

गर्मी के बढ़ने और कम बारिश की वजह से इस बार बांध में पिछले साल के मुकाबले 1 मीटर कम पानी है। ऐसे में एक दिन छोड़ दूसरे दिन शहर में सप्लाई की व्यवस्था को बनाए रखने के लिए बांध में उन इलाकों से पानी उठाया जा रहा है, जहां जल भराव ज्यादा है। पिछले दिनों नगर निगम की मेंटनेंस टीम ने यहां फ्लोटिंग प्लेटफॉर्म तैयार किया था, जिसमें पाइप लाइन लगाई जा रही है। 100 मीटर लंबी यह पाइप लाइन मुख्य लाइन से जोड़ी जाएगी। गुरूवार को पाइप लाइन का काम शुरू किया गया है।

उज्जैन के 6 पंप अभी भी रखे हैं
उज्जैन के 6 पंप राजघाट बांध में अभी भी डाले हुए है। इनका उपयोग गर्मी ज्यादा होने के दौरान किया जाएगा। निगम की प्लानिंग है कि अभी फ्लोटिंग प्लेटफॉर्म से सप्लाई होगी। इसके बाद जरूरत पड़ने पर उनका उपयोग किया जाएगा। गुरूवार को टेस्टिंग के दौरान सुधीर मिश्रा, रामाधार तिवारी, अकील खान, प्रकाश राजपूत और रामलाल समेत अन्य कर्मचारी मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...