• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Sagar
  • With The New Education Policy, Capable Colleges Will Be Able To Get The Status Of Dream University, Helpdesk Center Will Be Started

सागर में उच्च शिक्षा मंत्री बोले:नई शिक्षा नीति से समर्थ महाविद्यालय ड्रीम विश्वविद्यालय का दर्जा प्राप्त कर सकेंगे, हेल्पडेस्क सेंटर होगा शुरू

सागर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कार्यक्रम को संबोधित करते उच्च शिक्षा मंत्री यादव। - Dainik Bhaskar
कार्यक्रम को संबोधित करते उच्च शिक्षा मंत्री यादव।

सागर में शासकीय कन्या स्नातकोत्तर उत्कृष्ट महाविद्यालय के नवीन भवन का शुक्रवार को उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव ने लोकार्पण किया। कार्यक्रम के दौरान मंत्री यादव ने कहा कि नई शिक्षा नीति से रोजगार और स्वरोजगार के अवसर उपलब्ध होंगे। इसी के तहत सभी महाविद्यालय को नई शिक्षा नीति में ड्रीम विश्वविद्यालय का दर्जा प्राप्त होगा। उन्होंने कहा कि सागर में महाराजा छत्रसाल विश्वविद्यालय छतरपुर का हेल्पडेस्क सेंटर शुरू किया जाएगा जिससे सागर के छात्र-छात्राओं को सभी प्रकार की जानकारी मिल सकेगी। एनसीसी, एनएसएस अब वैकल्पिक विषय के रूप में छात्राएं पढ़ाई कर सकेंगी।

मंत्री यादव ने कहा कि नई शिक्षा नीति के माध्यम से आप व्यवसाय पाठ्यक्रमों को भी लागू किया जा रहा है। जिसमें कृषि, इंजीनियरिंग, उद्यानिकी, पर्यटन के साथ अन्य विषय भी रहेंगे। ताकि पढ़ाई करके छात्र-छात्राएं अपना व्यवसाय शुरू कर सकेंगे। इस दौरान सागर सांसद राज बहादुर सिंह, विधायक शैलेंद्र जैन, लक्ष्मण सिंह, शैलेश केशरवानी, स्वामी विवेकानंद विश्वविद्यालय के संस्थापक कुलपति डॉ. अनिल तिवारी, सुधीर यादव, श्याम तिवारी आदि उपस्थित थे।
कुलपति का पदनाम कुलगुरु करने की तैयारी
सागर में उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. यादव ने कहा कि विश्वविद्यालयों में कुलपति का पदनाम बदलने की तैयारी है। सरकार कुलपति का पदनाम कुलगुरु करने जा रही है। जल्द ही इस पर निर्णय लिया जाएगा। इसके अलावा शिक्षा के क्षेत्र में बेहतर कार्य करने वाले प्रोफेसर को प्रोत्साहित किया जाएगा।
मांगों को लेकर एनएसयूआई ने सौंपा ज्ञापन
इधर, कार्यक्रम के दौरान स्वर्ण जयंती सभागार के बाहर भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन के पदाधिकारी जमा हो गए। उन्होंने नारेबाजी की। साथ ही मांगों को लेकर उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में अतिरिक्त संचालक सागर डॉ. जीएस रोहित के करीब 7 वर्ष से गृह जिले में पदस्थ रहते हुए किए जा रहे भ्रष्टाचार की जांच कराने और कार्रवाई करने की मांग की गई। मांग पर मंत्री ने जांच कराने का आश्वासन दिया।

मांगों को लेकर मंत्री को ज्ञापन सौंपते हुए।
मांगों को लेकर मंत्री को ज्ञापन सौंपते हुए।
खबरें और भी हैं...