• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Sagar
  • Women Of The Group Distributed 3 Lakh 19 Thousand Tricolors, 13 Groups Prepared 19 Thousand 800 Flags Themselves

स्व-सहायता समूह की महिलाओं का बड़ा योगदान:समूह की महिलाओं ने 3 लाख 19 हजार तिरंगे बांटे, 13 समूहों ने 19 हजार 800 झंडे खुद तैयार किए

सागर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
समूह की महिलाओं ने तिरंगा झंडों के विक्रय के लिए 7 पंचायतों पर एक विक्रय केंद्र तैयार किया, जहां से महिलाओं ने ही झंडों का विक्रय किया - Dainik Bhaskar
समूह की महिलाओं ने तिरंगा झंडों के विक्रय के लिए 7 पंचायतों पर एक विक्रय केंद्र तैयार किया, जहां से महिलाओं ने ही झंडों का विक्रय किया
  • समूह की महिलाओं ने 11 जुलाई से झंडे तैयार करने का काम शुरू किया
  • कुल 100 विक्रय केंद्र खोले गए, जिनके माध्यम से 765 पंचायतें कवर की गईं

आजादी का अमृत महोत्सव के तहत हर घर तिरंगा अभियान में घर-घर तिरंगा उपलब्ध कराने में स्व-सहायता समूह की महिलाओं का बड़ा योगदान है। 13 से 15 अगस्त तक जिले में कुल 5 लाख 87 हजार घरों व दफ्तरों में तिरंगा झंडा फहराया जाना है। इसमें से 3 लाख 19 हजार 290 झंडों का वितरण स्व-सहायता समूह की महिलाओं द्वारा किया गया है। महिलाओं ने कुल 3 लाख 23 हजार 713 झंडे उपलब्ध कराएं। इनमें से रविवार तक 3 लाख 19 हजार 290 झंडों का विक्रय हो चुका है।

समूह की महिलाओं ने 11 जुलाई से झंडे तैयार करने का काम शुरू किया। तय मानकों के आधार पर झंडे तैयार करने में जब समय लगा और डिमांड बढ़ती गई तो महिलाओं ने जबलपुर और दिल्ली के वेंडर के जरिए जिले में तिरंगा झंडा उपलब्ध कराने शुरू किए। समूह की महिलाओं ने तिरंगा झंडों के विक्रय के लिए 7 पंचायतों पर एक विक्रय केंद्र तैयार किया, जहां से महिलाओं ने ही झंडों का विक्रय किया। पंचायतों में ग्राम संगठन कार्यालय को विक्रय केंद्र बनाया गया और 30 जुलाई से झंडों का विक्रय शुरू किया। कुल 100 विक्रय केंद्र खोले गए, जिनके माध्यम से 765 पंचायतें कवर की गईं।

केसली व देवरी की महिलाओं ने तैयार किए झंडे

जिले में सिर्फ देवरी और केसली ब्लॉक में 13 स्व-सहायता समूह से जुड़ी महिलाओं ने झंडे तैयार किए। महिलाओं ने बताया कि झंडा में सिर्फ अशोक चक्र बनाने में उन्हें थोड़ी दिक्कत हुई। बाकी 87 समूह की महिलाओं ने वेंडर के जरिए बाहर से झंडे मंगवाए और फिर उनका विक्रय किया। महिलाओं को एक झंडा 18 रुपए 50 पैसे का पड़ा। उन्होंने एक झंडा 20 रुपए 50 पैसे की दर से विक्रय किया। नगर निगम के सचिन मसीह ने बताया कि शहरी क्षेत्र के समूह की महिलाओं ने भी करीब 20 से 22 हजार झंडों का विक्रय किया है।

खबरें और भी हैं...