• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Sagar
  • Orchha
  • Today On Vivah Panchami, The Bridegroom Will Be Formed By Shri Ramraja Sarkar, People Will Do Tilak Of The Government.

ओरछा में विवाह महोत्सव:विवाह पंचमी पर आज श्रीरामराजा सरकार बनेंगे दूल्हा, लोग करेंगे सरकार का तिलक

ओरछाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • मंडप पूजन हुआ, ओमिक्राॅन के चलते इस बार भी नहीं हुई मंडप की पंगत

धार्मिक नगरी ओरछा के श्रीरामराजा मंदिर में चल रहे श्रीराम जानकी विवाह महोत्सव में मंगलवार को मंदिर के प्रधान पुजारी रमाकांत शरण महाराज एवं पुरोहित विजेंद्र कुमार विदुआ ने वेद मंत्रोच्चारण के साथ विधि-विधान से मंडप पूजन कराया। कार्यक्रम में मुख्य यजमान के रुप में निवाड़ी कलेक्टर नरेंद्र कुमार सूर्यवंशी शामिल हुए। गौरतलब है कि काेरोना के नए वैरिएंट ओमिक्राॅन के चलते हर साल होने वाली राम जानकी विवाह की मंडप पंगत नहीं हुई। रस्म के रुप में मंडप के नीचे छोटा भोज कराया गया।

इसके बाद श्रीराम राजा मंदिर प्रांगण में स्थित धर्मशाला में नगर सहित बाहर से आए श्रद्धालुओं को बूंदी का प्रसाद वितरित किया गया। इसके पहले श्री राम राजा मंदिर के आंगन में सरकार के विवाह की हल्दी रस्म हुई। जिसमें हजारों की संख्या में महिला व पुरुष श्रद्धालुओं ने एक दूसरे को हल्दी लगाकर नाचते गाते हुए राम जानकी वैवाहिक की रस्मों का आनंद लिया। बुधवार को श्रीरामराजा सरकार दूल्हा बनके निकलेंगे। नगर में द्वार-द्वार पर मंगल गायन के साथ सरकार का तिलक किया जाएगा। इस पावन महोत्सव की मंगल बेला पर धार्मिक नगरी ओरछा को दुल्हन की तरह सजाया गया है, जगह-जगह तोरण द्वार बनाए गए हैं।

बुधवार को शाम 7 बजे घोड़े हाथी, ढोल, नगाड़े, गाजेबाजों और राजसी ठाटबाट के साथ श्री रामराजा सरकार की बारात निकलेगी। वरयात्रा के मंदिर से निकलते ही सशस्त्र पुलिस बल द्वारा दूल्हा बने राजा राम को गॉर्ड ऑफ ऑनर दिया जाएगा। इसके बाद श्रीराम जी अपने छोटे भाई लक्ष्मण जी के संग पालकी में विराजमान होकर नगर के प्रमुख प्राचीन मार्गों से दर्शन देते हुए नगर के मुख्य चौराहे पर स्थित जनक भवन मंदिर के लिए निकलेंगे। बारात में राजसी प्रतीक चिन्ह पंखा, तिकोना, छड़ी, मशाल आदि सरकार की पालकी के साथ चलेंगे। वरयात्रा में धर्मध्वज बैंडबाजे, विद्युत सजावट के साथ धार्मिक कीर्तन मण्डली रामधुन के साथ रहेगी।

नगर के हर द्वार पर दूल्हा बने राजाराम का पारम्परिक बुंदेली वैवाहिक मंगल गीत गायन करते हुए तिलक किया जाएगा। इस पवन बेला पर नगर में जगह-जगह तोरण द्वार व मंगल कलश सजाकर बारात पर पुष्प वर्षा होगी। श्रीरामराजा सरकार की बारात मंदिर से नझाई मोहल्ला, पावर हाउस, शास्त्री नगर, गणेश दरवाजा होती हुई रात करीब 1 बजे नगर के मुख्य चौराहे पर स्थित जनक मंदिर पहुंचेगी। जहां मंदिर के पुजारी हरीश दुबे राजा जनक के रूप में दूल्हा सरकार का टीका कर बारात की अगवानी करेंगे। इसके बाद वैदिक रीती अनुसार विवाह की सभी रस्में होंगी।

श्री रामविवाह उत्सव पर रात में मंदिर के बाहर प्रांगण में श्रीरामराजा सेवा दल के संयोजन में देश के चुनिंदा ख्याति प्राप्त कलाकारों द्वारा धनुष यज्ञ लीला का मंचन किया जाएगा। इसके अलावा मंदिर परिसर में संत समागम के अतिरिक्त रामचरित मानस प्रवचन भजन कीर्तन आदि धार्मिक आयोजन चलते रहेंगे।

वधु पक्ष से हरीश दुबे की चौथी पीढ़ी कर रही सरकार का टीका

मंदिर के पुजारी रमाकांत शरण महाराज 35 साल से वर पक्ष की ओर से रस्में अदा करते आ रहे हैं। रमाकांत शरण महाराज दूल्हा सरकार की पालकी को वरयात्रा के रूप में निकासी करवाते हैं। पालकी में भगवान राम के साथ लक्ष्मण जी विराजमान रहते हैं। मुख्य यजमान के रुप में निवाड़ी कलेक्टर नरेंद्र सूर्यवंशी शामिल होंगे। साथ ही पुरोहित वीरेंद्र कुमार बिदुआ दूल्हा बने राम राजा सरकार का पारंपरिक विधि विधान व वेद मंत्रोच्चार के साथ पूजन कर बारात की निकासी करवाएंगे।

जानकी मंदिर के पुजारी हरीश दुबे महाराज का परिवार पिछली चार पीढ़ियों से दूल्हा सरकार का टीका करता आ रहा है। रामराजा सरकार की बारात नगर भ्रमण करके जनकपुरी पहुंचती है तो जानकी जू के मंदिर के पुजारी हरीश दुबे दूल्हा सरकार का टीका करते हैं। हरीश दुबे ने बताया कि वह अपनी पीढ़ी के चौथे व्यक्ति हैं जिन्हें दूल्हा सरकार का टीका करने का सौभाग्य मिल रहा है। उन्होंने बताया कि परिवार में परदादा स्व. राम प्रसाद दुबे, दादा स्व. नाथूराम दुबे, पिता स्व. गणेश प्रसाद के बाद अब मैं इस परंपरा को निभा रहा हूं।

खबरें और भी हैं...