पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

प्रशासन की अनदेखी:पाइप लाइन लीकेज हाेने से नालियों का गंदा पानी घरों के अंदर पहुंच रहा

पलेराएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पलेरा| नगर के वार्डों में डली पाइप लाइन हुई लीकेज, भर रहा पानी। - Dainik Bhaskar
पलेरा| नगर के वार्डों में डली पाइप लाइन हुई लीकेज, भर रहा पानी।
  • पहली बारिश ने खोली नगर पंचायत की खोली पोल, जगह-जगह भरा पानी

वर्षाकाल प्रारंभ होते ही शुरुआती दौर में नगर पंचायत की व्यवस्थाओं की पोल खुलना शुरू हो गई है। एक ओर जहां लीकेज पाइप लाइन सीसी सड़कों से गुजरने वाले राहगीरों के लिए मुसीबत बनी हुई है वहीं दूसरी ओर नालियों का दूषित पानी लीकेज पाइप में भरकर रहवासियों के घरों में पहुंच रहा है, जिस पर नगर पंचायत ध्यान नहीं दे रहा है। जिसको लेकर स्थानीय लोगों ने शिकायत की है। नगर में करीब 2 सप्ताह से पेयजल की पाइप लाइन टूटी हुई है। फिर भी नगर पंचायत कर्मचारियों की नजर यहां नहीं पहुंची। सुधार कार्य नहीं होने से लोगों के लिए मुसीबत बन गई है। वार्ड नंबर 5 निवासी कैलाश रजक ने बताया कि विगत 2 सप्ताह से वार्ड क्रमांक 5 एवं 6 के बीच पेयजल सप्लाई की पाइप लाइन टूटी हुई है।

जिसके चलते यह दूषित पानी जलभराव के कारण नागरिकों के घरों में भर रहा है। इसके साथ ही सीसी सड़क से निकलने वाले लोगों को भी असुविधा का सामना करना पड़ रहा है। जलभराव के कारण वार्ड में कई तरह के संक्रमण फैलने का भी खतरा बना हुआ है। उन्होंने बताया कि पहले भी इसी मामले को लेकर नगर पंचायत कार्यालय में शिकायत की गई थी। जिस पर अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है।
सुधार कार्य नहीं होने पर लोगों ने फिर सौंपा ज्ञापन

पेयजल की समस्या का समाधान नहीं होने पर वार्ड के लोगों ने फिर से नगर पंचायत सीएमओ शिकायती आवेदन सुधार कार्य कराने की मांग की है। आजाद खान, अल्लाहदीन खान, गौरीशंकर ने बताया कि सुधार कार्य के लिए सीएमओ इम्तियाज हुसैन को समस्त वार्डवासियों ने पुनः शिकायती आवेदन पत्र सौंपा है। जिससे जल्द से जल्द से इस समस्या का निराकरण हो सके।

पहली बारिश से उजागर हुई व्यवस्था की स्थिति
बारिश का दौर शुरू हो गया है। पहली ही बारिश में नालियों का पानी सड़कों पर जमा होने लगा है। नलियों में कचरा जमा होने से जगह-जगह गंदे पानी का भराव हो रहा है, जिसे साफ नहीं किया जा रहा है। ऐसे में बारिश होते ही गंदा पानी सड़कों पर पहुंच जाता है, जिससे राहगीरों को निकलने में परेशानी होती है। वहीं नालियों की भी मरम्मत नहीं की जा रही है।

खबरें और भी हैं...