पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना का कहर:कोविड गाइड लाइन से 7 लोगों का अंतिम संस्कार, टीकमगढ़ में 75 और निवाड़ी में 39 नए पॉजिटिव

टीकमगढ़एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अंतिम संस्कार के लिए लकड़ी जमाते कर्मचारी। - Dainik Bhaskar
अंतिम संस्कार के लिए लकड़ी जमाते कर्मचारी।
  • नए पॉजिटिव मरीजों की संख्या हुई कम, लेकिन संक्रमितों की लगातार जा रहीं जानें

जिले में सैंपलिंग घटने से नए मरीजों की संख्या कम होती जा रही है, लेकिन जिला अस्पताल में भर्ती संक्रमित मरीज लगातार दम तोड़ रहे हैं। जिनकी संख्या कम नहीं हो रही है। शुक्रवार को जिले में सात संक्रमित मरीजों की जान गई है। जिनका कोविड गाइड लाइन के तहत अंतिम संस्कार किया गया। मौत होने का कारण डॉक्टर भी स्पष्ट नहीं कर पा रहे हैं। कोरोना मरीजों को निमोनिया के साथ हार्ट अटैक भी प्रभावित कर रहा है। जिससे अधिकतर संक्रमित मरीज दम तोड़ रहे हैं।

जिले में लगातार संक्रमण फैलने से लोग कोरोना संक्रमण बीमारी की गिरफ्त में आते जा रहे हैं। जिले में सैंपलिंग की दर को तो घटा दिया गया, लेकिन पूर्व में भर्ती मरीज लगातार दम तोड़ रहे हैं। एक के बाद एक घटनाएं सामने आ रही हैं। ऐसे में लोगों के बीच डर बैठ गया है। हालांकि जिले का पॉजिटिव रेट भी घट गया है। जिससे कुछ हद तक राहत मिलने लगी है। पूर्व में लगातार 200 के करीब पॉजिटिव केस निकल रहे थे, लेकिन अब पॉजिटिव मरीजों की संख्या भी घट गई है। शुक्रवार को टीकमगढ़ जिले में 75 और निवाड़ी में 39 लोगों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई। इन लोगों को होम आइसोलेट किया गया है। वहीं शुक्रवार को एक भी मरीज डिस्चार्ज नहीं हुअा।

मई के पहले सप्ताह में 21 लोगों का गाइड लाइन से अंतिम संस्कार
शुक्रवार को बानपुर मुक्तिधाम पर सात लोगों का कोविड गाइडलाइन के तहत अंतिम संस्कार किया गया। पिछले 15 घंटे में अचानक सात संक्रमितों की जान जाने से लोगों का दिल दहल गया। वहीं मई माह के पहले सप्ताह में कोरोना ने भयानक रूप दिखा दिया है। एक सप्ताह में 21 संक्रमित मरीजों की जान जा चुकी है, लेकिन अभी तक इनका कारण डॉक्टर भी स्पष्ट नहीं कर पा रहे हैं। कहीं ऑक्सीजन की कमी तो कहीं मरीज खुद से टूटकर डर के चलते दम तोड़ रहा है। लगातार काेराेना संक्रमित की मौत होने से यह एक बड़ा सवाल खड़ा हो रहा है।

पहले और अभी के स्ट्रेन में बहुत फर्क : डॉ. सौरभ
जिला अस्पताल में भर्ती मरीजों की स्थिति के बारे में डॉ. सौरभ जैन से बात की गई तो उन्होंने बताया कि इस समय क्रिटिकल मरीज सबसे ज्यादा भर्ती हैं। यहां पर लगातार संक्रमित का इलाज तो किया जा रहा है, लेकिन मरीजों की रिकवरी लो हाेने से उन्हें ठीक होने में परेशानी बढ़ रही है। जो फिलहाल में जो भर्ती मरीज हैं उनका अभी ऑक्सीजन लेवल 90 से नीचे है। ऐसे में मरीजों काे रिकवर होने में बहुत समय लग जाता है।

उन्होंने बताया कि पहले के स्ट्रेन और अभी के स्ट्रेन में बहुत फर्क है। पहले एक परिवार में एक व्यक्ति ही संक्रमित होता था। अब यह तीन से चार दिनों में पूरे परिवार को संक्रमित कर देता है। अभी का वायरस जल्द ही ट्रांसमेंट करता है। संक्रमित की मौत हाेने के कई कारण हैं। इस दौरान मरीज को निमोनिया भी जो जाता है। साथ ही अटैक आने की संभावना बनी रहती है।

टीकमगढ़ में 1116 और निवाड़ी 100 मरीज एक्टिव
टीकमगढ़-निवाड़ी की स्थिति देखें तो टीकमगढ़ में 86 हजार 503 लोगों की सैंपलिंग की जा चुकी है। जिनमें 6206 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आ चुकी है। जिनमें 5015 लोगों को डिस्चार्ज किया जा चुका है। इनमें 1116 मरीज अभी एक्टिव हैं। इसी प्रकार निवाड़ी में 53 हजार 159 लोगों की सैंपलिंग की जा चुकी है। जिसमें 2707 लोग कोरोना पॉजिटिव निकले। वहीं 100 लोग अभी एक्टिव हैं। वहीं 2599 लोगों को डिस्चार्ज किया जा चुका है। इसके अलावा 100 से अधिक लोग कोरोना से दम तोड़ चुके हैं।

खबरें और भी हैं...