• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Sagar
  • Tikamgarh
  • Indoor And Outdoor Stadiums Have Not Been Built Yet In Dhonga Ground, Only Boundary Walls And Gates Have Been Built In Four Years.

लेटलतीफी:ढोंगा ग्राउंड में इंडोर व आउटडोर स्टेडियम अब तक नहीं बन पाया, चार साल में सिर्फ बाउंड्रीवॉल और गेट ही बने

टीकमगढ़एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मैदान पर अब-तक सिर्फ बाउंड्रीवाल और जॉगिंग ट्रैक बना। ड्रोन फोटो - विवेक लखेरा - Dainik Bhaskar
मैदान पर अब-तक सिर्फ बाउंड्रीवाल और जॉगिंग ट्रैक बना। ड्रोन फोटो - विवेक लखेरा
  • ढोंगा मैदान का नामकरण पूर्व सीएम उमा भारती की मां बेटी बाई लोधी के नाम से किया गया था

ढोंगा खेल मैदान में पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती की मां बेटीबाई लोधी के नाम से इंडोर व आउटडोर स्टेडियम बनाया जाना है। इसके लिए 20 फरवरी 2017 में पूर्व सीएम उमा भारती ने गेट और बाउंड्रीवॉल का लोकार्पण किया था। इसी समय मैदान का नाम उमा भारती की मां बेटी बाई लोधी के नाम पर रखा गया था। करीब 4 साल बीतने को हैं, बावजूद इसके मैदान पर अब तक काम शुरू नहीं हाे पाया है।

गौरतलब है कि ढोंगा खेल मैदान का बड़े स्तर पर कायाकल्प किया जाना है, लेकिन फिलहाल की स्थिति में मैदान का समतलीकरण तक नहीं हो पाया है। अब तक सिर्फ इंडोर स्टेडियम की बाउंड्रीवॉल और जॉगिंग ट्रैक ही तैयार हो पाया है। 45 एकड़ में फैले मैदान पर करीब 20 करोड़ रुपए की लागत से इंडोर स्टेडियम और आउटडोर स्टेडियम के साथ-साथ 12 प्रकार के खेल मैदान तैयार होना है।

पिछले कुछ दिनों आचार संहिता के चलते काम प्रभावित रहा: विधायक

सोमवार को टीकमगढ़ प्रवास पर आईं सुश्री उमा भारती से जब ढोंगा मैदान के कायाकल्प को लेकर चर्चा की तो उन्होंने कहा कि इसका जवाब आपके क्षेत्र के विधायक राकेश गिरी ज्यादा अच्छे से दे सकते हैं, कि अब तक मैदान के लिए क्या कार्ययोजना तैयार की गई है। इसके बाद टीकमगढ़ विधायक गिरी ने कहा कि मैदान तैयार करने के लिए टेंडर बुलाए जा रहे हैं, लेकिनपिछले कुछ दिनों से आचार संहिता के चलते काम प्रभावित हो रहे हैं।

उन्होंने कहा कि फिलहाल त्रि-स्तरीय पंचायतों की आचार संहिता लगी है। इसके बाद निश्चित ही मैदान का कायाकल्प किया जाएगा। गिरी ने कहा कि मैदान की सुंदरता बढ़ाने के लिए हैदराबाद से पौधों को मंगाने की तैयारी है। वहीं हॉकी के लिए मैदान पर एस्ट्रोटर्फ भी बिछाई जाएगी।

45 एकड़ के मैदान में 2013-14 में एक करोड़ से बनी बाउंड्रीवॉल
करीब 45 एकड़ में फैले ढोंगा मैदान के चारों तरफ 2013-14 में करीब 1 करोड़ की लागत से बाउंड्रीवॉल बनाई गई थी। इसके बाद अभी बाहर की तरफ मैदान के चारों तरफ 1 करोड़ की लागत से जॉगिंग ट्रैक तैयार किया जा रहा है। इस जॉगिंग ट्रैक को दो भागों में बांटा जा रहा है। जॉगिंग ट्रैक तैयार होने के बाद चारों तरफ लाइटिंग की व्यवस्था की जाएगी। साथ ही मैदान के चारों तरफ लगे राजशाही जमाने के ताड़ के वृक्ष मैदान की सुंदरता बढ़ाते हैं।

फुटबॉल, हॉकी, कुश्ती व अन्य खेलों के लिए तैयार होना है ग्राउंड
फुटबाल, हॉकी मैदान, कुश्ती व बैडमिंटन कोर्ट भी बनने हैं। मैदान पर इंडोर और आउटडोर स्टेडियम के निर्माण की प्रक्रिया शुरू होना थी, जो आज दिनांक तक शुरू नहीं हो पाई। आउटडोर स्टेडियम में फुटबाल, हॉकी, क्रिकेट, वॉलीबाॅल, खो-खो, कबड्डी, 100, 400, 800 और 1600 मीटर का जॉगिंग ट्रैक, ऊंची कूद, लंबी कूद खेलों की सुविधा मिलना थी। वहीं इंडोर स्टेडियम में टेबल टेनिस, बैडमिंटन, कुश्ती, जूडो-कराटे खेलों की सुविधा यहां पर खिलाड़ियों को उपलब्ध करवाने की कार्ययोजना थी।

खबरें और भी हैं...