पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जिले में एक घंटे में 10 मिमी बारिश:कल से मानसूनी हलचल के आसार, 11 तक अच्छी बारिश की संभावना

टीकमगढ़20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
टीकमगढ़। बारिश से तरबतर हुआ शहर। - Dainik Bhaskar
टीकमगढ़। बारिश से तरबतर हुआ शहर।
  • जिले में अब तक 4.10 इंच बारिश जो पिछले साल से 2.48 इंच कम, दोपहर में खिली धूप ने बढ़ाई उमस

बारिश की खेंच से परेशान हो रहे लोगों के लिए अच्छी खबर है। अब 8 जुलाई के बाद मानसून दोबारा सक्रिय होगा। ऐसे में जिले में एक साथ तेज बारिश होने के आसार हैं। अभी नमी के कारण खंड वर्षा हो सकती है। बुधवार को एक घंटे में हुई 10 मिमी बारिश से किसानों के मायूस चेहरे खिल गए हैं। जिले में अब तक 104.2 मिमी यानी 4.10 इंच औसत बारिश रिकाॅर्ड हुई है। यह पिछले साल से करीब 63.1 मिमी यानी 2.48 इंच कम है। पिछले एक सप्ताह से जिले में तेज बारिश नहीं हुई है। बुधवार को सुबह से जिले के कुछ हिस्सों में बारिश हुई। लेकिन दोपहर के बाद निकली तेज धूप के कारण उमस ने लोगों ने परेशान कर दिया।

मौसम विभाग के अनुसार 10 और 11 जुलाई को लो प्रेशर सिस्टम बनेगा। इससे अच्छी बारिश होने के आसार हैं। बता दें कि बारिश की खेंच के चलते फसलों पर संकट मंडराने लगा था। लेकिन बुधवार को हुई करीब 10 मिमी बारिश से किसानों की उम्मीदें फिर से जगी हैं। पिछले कई सालों से सोयाबीन और उड़द की फसल खराब होने के चलते किसानों ने इस बार मूंगफली की फसल पर भरोसा दिखाया है। टीकमगढ़-निवाड़ी जिले में करीब 11 हजार हेक्टेयर में मूंगफली की रकबा बढ़ा है। जबकि सोयाबीन और उड़द का रकबा घटा है।
अब तक सबसे ज्यादा टीकमगढ़ में 5.98 इंच, सबसे कम बल्देवगढ़ में बरसे बादल

जिले में अब तक 104.2 मिमी बारिश हो चुकी है। लेकिन यह पिछले साल अब तक हुई बारिश से 63.1 मिमी कम है। भू-अभिलेख शाखा के अनुसार पिछले साल जिले में अब तक 167.3 मिमी बारिश रिकाॅर्ड हुई थी। जिले में अब तक सबसे ज्यादा बारिश टीकमगढ़ ब्लॉक में 152.0 मिमी यानी 5.98 इंच बारिश हुई है। इसके साथ ही बल्देवगढ़ में 54 मिमी, जतारा में 80 मिमी और पलेरा में 122 मिमी बारिश हुई है। पिछले पांच साल के दौरान वर्ष 2020 में सबसे अधिक 167.3 मिमी बारिश हुई।

आगे क्या : हवा में आ रही नमी से हाेगी बारिश
मौसम विभाग के एके श्रीवास्तव ने बताया कि अरब सागर से हवा में नमी मिल रही है। इस कारण अंचल में बादल बन रहे हैं। हालांकि 8 जुलाई के बाद बंगाल की खाड़ी में कम दबाव का क्षेत्र बनने के आसार हैं, जिससे फिर से मानसूनी एक्टिविटी शुरु होंगी और अंचल में तेज बारिश देखने को मिलेगी।

तीन घंटे नहीं रही बिजली, लोग हुए परेशान

दोपहर करीब 2.30 बजे इंद्रा काॅलोनी में 11 केवी की लाइन को शिफ्ट किया जाना था। बिजली विभाग ने बिना सूचना परमिट जारी कर की कटौती कर दी। ऐसे में उमस भरी गर्मी से लोग बेहाल हो गए। टीकमगढ़ निवासी बीपी सिंह राठौर ने बताया कि बिजली विभाग की इस तरह की लापरवाही से लोग परेशान होते रहे। बिजली विभाग में फोन लगाने पर ढोंगा मैदान के पास फाल्ट आने की बात कही गई।

इस बार उड़द का रकबा घटा, साेयाबीन का बढ़ा

टीकमगढ़ जिले में 2021 में सोयाबीन का रकबा 2160 हेक्टेयर बढ़ा है। जबकि उड़द का रकबा 11220 हेक्टेयर घट गया है। इसके अलावा बारिश और पीला मोजेक के डर के चलते किसानों ने मूंगफली की फसल पर भरोसा दिखाया है। जिसका रकबा इस बार 6700 हेक्टेयर बढ़ा है। वहीं निवाड़ी जिले में भी मूंगफली का रकबा करीब 4 हजार हेक्टेयर तक बढ़ा है।

खबरें और भी हैं...