पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Sagar
  • Tikamgarh
  • Sampling Did Not Increase In The District Even After The Instructions Of CM, Less In Rapid, More Patients Are Getting In RTPCR

स्वास्थ्य विभाग की मनमानी:सीएम के निर्देश के बाद भी जिले में नहीं बढ़ाई सैंपलिंग, रैपिड में कम, आरटीपीसीआर में ज्यादा मिल रहे मरीज

टीकमगढ़14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
टीकमगढ़ | रैपिड किट से की जा रही लोगों की कोरोना जांच। - Dainik Bhaskar
टीकमगढ़ | रैपिड किट से की जा रही लोगों की कोरोना जांच।
  • टीकमगढ़ जिले में रोजाना 750 सैंपलिंग के निर्देश, जिनमें 250 आरटीपीसीआर से लेना है

अप्रैल-मई महीने में कोरोना ब्लास्ट होने के बाद 24 मई को सागर प्रवास पर आए सीएम शिवराज सिंह चौहान ने वीसी में स्वास्थ्य विभाग को सैंपलिंग बढ़ाने के लिए निर्देशित किया। बावजूद इसके स्वास्थ्य विभाग ने आज तक सैंपलिंग की संख्या नहीं बढ़ाई है। 24 मई को वीसी के बाद दूसरे दिन 25 मई को भी जिले में सिर्फ 519 लोगों के ही सैंपल लिए गए।

इसमें आरटीपीसीआर से सिर्फ 199 लोगों के ही सैंपल हुए। जबकि स्वास्थ्य संचालनालय के निर्देशानुसार टीकमगढ़ जिले में रोजाना 750 सैंपल लिए जाना है। जिनमें 250 सैंपल आरटीपीसीआर से लेने के निर्देश हैं। जिससे अधिक से अधिक संक्रमित सामने आएं और जिले से संक्रमण को खत्म किया जाए, लेकिन स्वास्थ्य विभाग की मनमानी के चलते जिले से पॉजिटिविटी रेट घटाने के लिए कम सैंपलिंग की जा रही है। वहीं भरोसेमंद आरटीपीसीआर सैंपल रैपिड की तुलना में आधे हैं। जबकि आरटीपीआर में अभी भी पॉजिटिव मरीज निकल रहे हैं, लेकिन पिछले 5 दिनों के आंकड़ाें को देखा जाए तो 25 को 310 और 28 मई को 409 सैंपल रैपिड से लिए गए। जिनमें एक भी पॉजिटिव नहीं निकला।

यह बड़ा सवाल है कि दो दिन में 719 रैपिड सैंपलों में एक भी पॉजिटिव नहीं मिलना यह कैसे संभव है। जबकि इन्हीं दो 452 आरटीपीसीआर सैंपलों में 19 पॉजिटिव मिले। इसका असर भी यह दिख रहा है कि सैंपल तो आंकड़ों में दिख रहे हैं, लेकिन वास्तव में पॉजिटिविटी रेट घटाने का यह खेल अभी भी जारी है। टीकमगढ़ 1 में निवाड़ी में 8 पॉजिटिव मिले: जिले लगातार रैपिड किट से जांच होने के चलते संक्रमितों के मामले तेजी से घट रहे हैं। जिसके चलते रविवार को सिर्फ 1 मरीज पॉजिटिव मिला। जबकि 26 डिस्चार्ज हुए। वहीं निवाड़ी में रविवार को 8 पॉजिटिव मिले।

ध्यान नहीं गया कि रैपिड में पॉजिटिव ही नहीं निकले

25 व 28 मई को रैपिड में एक भी पॉजिटिव न निकलने को लेकर जब सीएमएचओ डॉ. शिवेंद्र चौरसिया से बात की, तो उन्हाेंने कहा कि इस तरफ मेरा ध्यान ही नहीं गया कि रैपिड में एक भी पॉजिटिव नहीं और आरटीपीसीआर में पॉजिटिव मरीज मिले हैं। उन्होंने कहा कि यह गंभीर मामला है। इसको दिखवाता हूं, लापरवाही पर कार्रवाई करूंगा।

संक्रमण दर कम करने आरटीपीसीआर की जगह रेपिड से किए जा रहे टेस्ट
कोरोना की संक्रमण दर कुल सैंपल में मिलने वाले संक्रमितों की संख्या के आधार पर निकाली जाती है। जैसे 100 सैंपल में 10 मरीज मिलने पर संक्रमण दर 10% रहेगी। यानि हर 10 सैंपल में एक मरीज। इसलिए सैंपल बढ़ाने के लिए टीकमगढ़ में आरटीपीसीआर के बजाय रैपिड टेस्ट दोगुने हो रहे हैं। ऐसे में सैंपलिंग तो दिख रही हैं, लेकिन रैपिड में कम संक्रमित मिलने की वजह से पॉजिटिविटी रेट काफी प्रभावित हुई है।
1 जून से बाजार अनलॉक हुआ तो संभलना जरूरी क्योंकि हर 33वां व्यक्ति संक्रमित
जिले में प्रशासन ने पॉजिटिविटी रेट कम होने के चलते 1 जून से अनलॉक की तैयारियां कर ली हैं, लेकिन इस समय संभलकर रहना जरूरी है। क्योंकि आरटीपीसीआर से कम सैंपलिंग होने से पॉजिटिव मरीज कम सामने आ रहे हैं। जबकि हर 33वें व्यक्ति में संक्रमण आज भी है। जिले के अधिकांश ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना कर्फ्यू के बावजूद भी लोगों की भीड़ जुट रही है। ऐसे में अनलॉक की प्रक्रिया शुरू होते ही बाजार में भीड़ बढ़ेगी।

खबरें और भी हैं...