पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बेखौफ माफिया:माफिया द्वारा बारगी नदी से निकाली जा रही रेत, खेतों में डंप करके बनाया स्टॉक

टीकमगढ़23 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
टीकमगढ़| बम्होरी की बारगी नदी को खेद कर इस तरह से निकाली जाती है रेत। - Dainik Bhaskar
टीकमगढ़| बम्होरी की बारगी नदी को खेद कर इस तरह से निकाली जाती है रेत।
  • लॉकडाउन का माफिया ने उठाया फायदा, इनके खिलाफ कोई बड़ी कार्रवाई नहीं

जिले के दिगौड़ा थाना क्षेत्र के बम्होरी खास गांव में अवैध रेत का कारोबार बढ़ता जा रहा है। गांव के पास से निकली बारगी नदी से रोजाना कई ट्रॉली रेत निकाली जा रही है। इस नदी पर दबंगों का कब्जा होने से ग्रामीण शिकायत नहीं कर रहे हैं। जिससे खेतों में होकर ट्रैक्टर-ट्रॉली निकालते रहते हैं।

इतना ही नहीं अवैध रेत पर कार्रवाई न हो, इसके लिए खेतों में रेत के डंप बनाए हुए हैं। लॉकडाउन में माफिया ने नदी को पूरी तरह छल्ली कर दिया है। ऐसे में अब तक यहां कोई बड़ी कार्रवाई नहीं हो सकी। दरअसल बम्होरी खास से निकली बारगी नदी जो कारी टोरन नदी के नाम से जानी जाती है। इस सूखी नदी से रोजाना रेत निकालकर ट्रैक्टर-ट्राॅली से गांव-गांव में भेजी जा रही है। रात के समय जेसीबी चलाकर रेत निकालने का काम किया जा रहा है। नदी सूखने के बाद भी अवैध खनन जारी है।

रेत के साथ-साथ नदी के आसपास की मुरम भी निकाली जा रही है। मुरम को भी रेत के साथ महंगे दामों बेच रहे हैं। माफिया की शिकायत करने वाला कोई नहीं होने से हौसले बुलंद हैं। जिस पर माफिया के खिलाफ बड़ी कार्रवाई नहीं हो पा रही है। नदी के पास खनन करके उसका आकार भी बदल दिया है।

अब बड़े-बड़े गड्ढे नजर आने लगे हैं। आने वाले दिनों में बारिश होने यह भर जाएंगे। इस दौरान कई हादसे हो सकते हैं। ऐसे में पंचायत द्वारा भी इस ओर ध्यान नहीं दिया जा रहा है। खेतों में बनाया रेत का स्टॉक: नदी से रेत निकालने के बाद बम्होरी गांव के खेतों में डंप किया जाता है। खेतों में लगे रेत के डंप भी बड़ी मात्रा में फैले हुए हैं। जहां से रोजाना ट्रैक्टर ट्रॉली भरकर रेत को बेचने का काम किया जा रहा है।

इस तरह बम्होरी में रेत का स्टॉक बनाकर माफिया द्वारा धड़ल्ले से काम किया जा रहा है। नदी से निकालने वाली रेत का न तो पिटपास निकलता है और न ही यह कोई रेत खदान है। बिना पिटपास के लगातार अवैध कार्य माफिया द्वारा जारी है।
माइनिंग की जिम्मेदारी है
इस संबंध में एएसपी एमएल चौरसिया का कहना है कि रेत पर कार्रवाई करना माइनिंग की जिम्मेदारी है। रेत पर कार्रवाई तो वही करते हैं। अगर कार्रवाई के दौरान सुरक्षा मांगेंगे तो हम उपलब्ध कराएं। पुलिस हर जगह काम कैसे कर सकती है। अभी लाॅकडाउन के चलते पुलिस व्यस्त भी है। बम्होरी गांव में अगर रेत खनन हो रहा है तो दिखवा लेते हैं।

खबरें और भी हैं...