• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Sagar
  • Tikamgarh
  • Threat To The Laborer Who Caught The Bank Manager Taking Bribe, On The Orders Of The High Court, The Policeman Is Deployed In The Security Of The Worker When He Comes To Tikamgarh From Delhi

घूसखोर के आगे नहीं डिगा मजदूर... मिली सुरक्षा:बैंक मैनेजर को रिश्वत लेते पकड़वाने वाले को खतरा; हाईकोर्ट के आदेश पर दिल्ली से टीकमगढ़ आने पर सुरक्षा में हर समय तैनात रहता है जवान

टीकमगढ़4 महीने पहले
टीकमगढ़ में पुलिस का जवान मजदूर के साथ बाइक से जाता हुआ।

टीकमगढ़ में इन दिनों दिल्ली में मजदूरी करने वाले व्यक्ति को हाईकोर्ट के आदेश पर मिली पुलिस सुरक्षा चर्चाओं में है। दिल्ली में काम करने वाले तुलसीदास को टीकमगढ़ अपने घर आते ही पुलिस सुरक्षा मुहैया कराने के लिए हाईकोर्ट ने एसपी को निर्देशित किया है। मजदूर जब तक टीकमगढ़ में रहता है, तब तक उसके साथ जवान तैनात रहता है। साल 2017 में मवई गांव में बैंक मैनेजर वीरेंद्र कुमार जैन ने किसान क्रेडिट कार्ड (KCC) की लिमिट बढ़ाने के लिए घसिया अहिरवार से 4 हजार की रिश्वत मांगी थी। इसकी शिकायत घसिया के भतीजे तुलसीदास अहिरवार ने CBI जबलपुर से की थी।

CBI ने 20 सितंबर 2017 को मवई के मध्यांचल ग्रामीण बैंक से मैंनेजर वीरेंद्र कुमार जैन को रिश्वत लेते पकड़ा था। मामला CBI कोर्ट भोपाल में विचाराधीन है। इसी बीच, तुलसीदास पर मैनेजर और उसके साथी बयान पलटने के लिए दबाव बनाते रहे, लेकिन तुलसीदास अहिरवार ने उनकी बात नहीं मानी।

गांव के कुछ लोगों पर लगाया हत्या का आरोप
30 मार्च 2021 को तुलसीदास के भतीजे शंकर अहिरवार का शव गांव से दूर नारगुड़ा के जंगल में मिला। इसके बाद गांव के कुछ लोगों पर तुलसीदास अहिरवार ने हत्या का आरोप लगाया। कॉल डिटेल के साथ-साथ मामले की बारीकी से जांच की मांग की थी। इसे लेकर जबलपुर हाईकोर्ट में तुलसीदास ने याचिका दायर की। मामला संदिग्ध होने के चलते फरियादी को हाईकोर्ट ने सुरक्षा उपलब्ध कराई।

4 अगस्त को हाईकोर्ट ने SP को दिया आदेश
टीकमगढ़ से सटे श्रीनगर गांव के रहने वाले तुलसीदास का आरोप है, बैंक मैंनेजर द्वारा साजिश के चलते भतीजे शंकर अहिरवार की हत्या करवाकर फंदे पर लटकाया गया है। मामले की सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट के जस्टिस संजय द्विवेदी की एकलपीठ ने 4 अगस्त को टीकमगढ़ SP को निर्देशित किया, फरियादी तुलसीदास को सुरक्षा मुहैया कराई जाए। साथ ही, फोन के कॉल डिटेल की जांच करें। याचिकाकर्ता की ओर से अधिवक्ता आरती द्विवेदी और चिमन लाल सेठी ने न्यायालय में दलील दी थी।

दिल्ली से आते समय थाना प्रभारी को सूचित करता है
दिल्ली से जब भी तुलसीदास टीकमगढ़ अपने घर आता है, तो पहले देहात थाना प्रभारी को फोन पर सूचना देता है। यहां पहुंचते ही जितने दिन वह रुकता है, उसके साथ जवान तैनात रहता है। इससे तुलसीदास को बैंक मैनेजर के लोग खतरा नहीं पहुंचा सकें। एसपी प्रशांत खरे का कहना है, फरियादी तुलसीदास को जब-जब सुरक्षा मुहैया करवाई जा रही है। उसका रिकॉर्ड रखा जा रहा है।

खबरें और भी हैं...